• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Alwar
  • Haji Was Insulted At The Behest Of The Minister In The Elections, Forcibly Took The Candidates To The Police Station

समाज ने मंत्री व एसएचओ के खिलाफ भरी हुंकार:बोले- चुनावों में मंत्री के कहने पर हाजी का अपमान हुआ, प्रत्याशियो को जबर्दस्ती थाने ले गई पुलिस

अलवरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ये मैसेज समाज में चल रहा। - Dainik Bhaskar
ये मैसेज समाज में चल रहा।

अलवर के मेव समाज में श्रम राज्य मंत्री टीकाराम जूली व सदर थाना प्रभारी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। पंचायत चुनाव में हाजी के घर रात को पुलिस भेजने और दो प्रत्याशियों को घर से उठाकर ले जाने के आरोप लगाते हुए श्रम मंत्री को पद से हटाने और सदर थाना प्रभारी को सस्पेंड करने की मांग जोर पकड़ने लगी है। जिसके लिए सोमवार को समाज के लोग जुलूस निकालते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह के फूल बाग आवास पहुंचेंगे। इसके बाद 12 नवम्बर को महापंचायत की तैयारी है। इस मामले में श्रम मंत्री टीकाराम जूली का कहना है कि यह सब गलत है। पंचायत चुनाव में उनका कोई हस्तक्षेप नहीं रहा।

ये है मंत्री पर आरोप
- राज्यमंत्री के इशारो पर पुलिस ने गैरकानूनी रूप से चुनावों के समय समाज के प्रतिष्ठित लोगों को प्रताड़ित किया गया है।
- 26 अक्टूबर को मतदान वाले दिन उमरैण ब्लॉक में पंचायत समिति सदस्य का चुनाव लड रहे 2,3 उम्मीदवारों को सदर थाना की पुलिस ने बिना वजह सुबह 8 बजे उठाया और वोटिंग समाप्त होते ही शाम को छोड़ दिया गया।
- मतदान की पूर्व रात में कुछ पूर्व सरपंचों के घरों पर पुलिस को निगरानी में बैठा दिया गया। ताकि वे लोग अपना स्वतंत्र चुनाव प्रचार एवं प्रबंधन ना कर सकें।
- 31 अक्टूबर को प्रधान चुनाव प्रक्रिया सम्पन्न होने के बाद पंचायत समीति उमरैण के उप प्रधान पद पर चुनाव लड़ने का दावा करने के गुनाह की सजा के तौर पर मेव समाज के एक अति प्रतिष्ठित हाजी परिवार के घर रात में 10 बजे पुलिस भेज दी गई।
सदर थाना प्रभारी पर आरोप
मेव समाज का श्रम राज्य मंत्री और अलवर सदर थाना प्रभारी दोनों पर आरो हैं। इसलिए मेव समाज की मांग है कि सम्बंधित थानाधिकारी को तुरंत प्रभाव से सस्पेंड किया जाए। यही नहीं मंत्री को केबिनेट से बाहर करने की मांग करने लगे हैं।
अन्यथा 12 नवम्बर को महापंचायत
अन्यथा 12 नवम्बर को दोपहर 2 बजे बख्तल की चौकी के पास महापंचायत की जाएगी। उसी समय आंदोलन की आगे की रणनीति तय होगी।