पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Alwar
  • In 21 Districts Of The State, Infection Has Reduced By Less Than 5 Percent, In Comparison To Them, The Positive Rate Is Still Double In Alwar

अलवर में अब भी 8 प्रतिशत से अधिक संक्रमण:प्रदेश के 21 जिलों में 5 प्रतिशत से कम हो चुका संक्रमण, उनकी तुलना में अलवर में अब भी दोगुना पॉजिटिव दर

अलवर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पहले अस्पतालों में इतनी भीड़ रही। फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
पहले अस्पतालों में इतनी भीड़ रही। फाइल फोटो।

एक जून से सरकार 5 प्रतिशत से कम पॉजिटिव दर वाले जिलों में लॉकडाउन में कुछ छूट दे सकती है। प्रदेश के ऐसे 21 जिलों की तुलना में अलवर में छूट मिलना कम संभव लग रहा है। असल में अलवर में अब भी कोरोना संक्रमण की रफ्तार 8 से 10 प्रतिशत के आसपास है। जबकि 21 जिलों में संक्रमण की दर 5 या इससे कम आ चुकी है। इस कारण सरकार उन जिलों में एक जून से अनलॉक शुरू कर सकती है।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ ओपी मीणा ने बताया कि अलवर जिले में रोजाना करीब 3 हजार के आसपास सैंपल की जांच होती है। जिसमें से करीब 8 से 10 प्रतिशत पॉजिटिव आते हैं। आठ प्रतिशत से अधिक तो कभी 10 प्रतिशत के आसपास है। एक दिन पहले अलवर में 178 पॉजिटिव आए हैं। इसके अनुसार तो जिले में सैंपल की जांच 2 हजार के आसपास ही हाे रही है। जबकि प्रशासन रोजाना 3 हजार से अधिक सैंपल की जांच होना बताता है।

15 दिन पहले 33 प्रतिशत तक पहुंचा संक्रमण
अलवर में करीब 15 दिन पहले 33 प्रतिशत से अधिक पॉजिटिव दर हो चुकी थी। उस समय एक दिन में 1 हजार से अधिक पॉजिटिव आने लग गए थे। अब यह रफ्तार काफी घटी है। पिछले 10 दिनों से जिले में नए पॉजिटिव आने वाले मरीजों की संख्या काफी कम हो गई है। तभी तो अब जिले में एक्टिव केस 11 हजार से कम होकर 3 हजार के आसपास आ गए हैं।

बांरा-जालोर में एक प्रतिशत भी पॉजिटिव नहीं
प्रदेश के बांरा व जालोर में एक प्रतिशत से भी कम पॉजिटिव दर है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार जहां 5 प्रतिशत से भी कम पॉजिटिव दर है। वहां पर कोराेना कंट्रोल में है। सरकार भी इस गाइडलाइन काे ध्यान में रखकर की अनलाॅक के निर्णय करेगी। ताकि दुबारा से कोरोना संक्रमण नहीं फैले और स्थिति कंट्रोल से बाहर नहीं हो। करीब 15 दिन पहले के हालातों को अभी जनता नहीं भूली है। मरीजों को बेड नहीं मिले थे। एंबुलेंस में ही मौते हुई हैं। काफी मरीज भर्ती नहीं हो पाए।

खबरें और भी हैं...