पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Alwar
  • In Alwar's Burdod, A 33,000 KV Line Caught Fire By Short circuited, Bushes Were Burnt To 100 Feet, Wheat Was Barely Saved.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जिले में कई जगह आग, गाय जली:अलवर के बर्डोद में 33 हजार KV की लाइन में शॉर्टसर्किट से आग लगी, 100 फीट तक झाड़ियां जल गईं

अलवरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शॉटसर्किट से लगी आग से नीचे जल गई झाड़ियां। - Dainik Bhaskar
शॉटसर्किट से लगी आग से नीचे जल गई झाड़ियां।
  • जिले में एक दर्जन से अधिक जगहों पर आग की सूचना

अलवर के बर्डोद में 33 हजार केवी की लाइन के शॉर्टसर्किट से आग लगी, 100 फीट तक झाड़ियां जल गई, गेहूं को मुश्किल से बचाया अलवर जिले में बहरोड़-अलवर मार्ग पर बर्डोद के निकट कारोड़ा गांव में मंगलवार को दोपहर करीब 12 बजे 33 हजार केवी की विद्युत लाइन में शॉर्टसर्किट हुआ। इससे निकली चिंगारी से जमीन पर झाड़ियां में आग लग गई। करीब 100 फीट तक झाड़ियां जल गई। बड़ी मुश्किल से किसानों ने गेहूं के खड़े खेतों को आग से बचाया। काफी देर बाद में नगर पालिका की गाड़ी पहुंची। इसने पूरी तरह आग को बुझाया।

रैणी के मुण्डिया गांव में छप्पर में आग लगने से एक गाय सहित दो पशु जिंदा जल गए। ग्रामीणों ने बताया कि छप्पर में अज्ञात कारणों से आग लगी। इसके अलावा भी बहरोड़ व नीमराणा के आसपास कई जगहों पर आग लगी है। बानसूर में भी एक जगह कचरे में आग लगी है। आग बुझाने के लिए दिन भी दमकल वाहन इधर से उधर दौड़ते रहे।

रैणी के मुण्डिया गांव में छप्पर में आग लगी। दो पशु जिंदा जल गए।
रैणी के मुण्डिया गांव में छप्पर में आग लगी। दो पशु जिंदा जल गए।

गणपत व देशराम के खेत
कारोड़ा के निकट जहां आग लगी। उसके पास ही देशराम व गणपत के खेत में गेहूं की पकी हुई फसल थी। एक बार तो आग खेतों की ओर बढ़ गई थी। लेकिन, वहां किसानों ने मिट्टी डालकर काबू किया। इस आग को बुझाने में थोड़ा विलम्ब हो जाता तो किसानों के कई बीघा गेहूं के खेत जल जाते।

आग बुझाने बहरोड़ नगर पालिका से दमकल पहुंची। तब तक काफी झाड़ियां जल गई थी।
आग बुझाने बहरोड़ नगर पालिका से दमकल पहुंची। तब तक काफी झाड़ियां जल गई थी।

विद्युत निगम की लापरवाही
यह साफ तौर पर विद्युत निगम के जिम्मेदारों की लापरवाही है। जहां से 33 हजार केवी की लाइन गुजर रही है। उसके आसपास के पेड़ों की टहनियों को नहीं काटा जाता। मतलब मरम्मत का कार्य समय पर नहीं किए जाने के कारण यहां शॉर्टसर्किट से आग लगी है। इसके लिए विभाग के जिम्मेदार ही दोषी हैं।

हवा के बहाव से भी बचाव
ग्रामीणों ने बताया कि हवा के बहाव से भी बचाव हो गया। आग लगने के दौरान हवा का बहाव उत्तर से दक्षिण की तरफ नहीं था। इसके कारण आगे की चिंगारी खेतों की और कम जा सकी। उस समय हवा दक्षिण से उत्तर की तरफ थी। इस कारण आग की चिंगारी खेतों तक कम पहुंची।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

और पढ़ें