पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बड़ पूजा करके काेराेना से मुक्ति की कामना:​​​​​​​अलवर शहर में मास्क लगाकर महिलाएं बड़ पूजा करने निकली घराें से बाहर, काेराेना संक्रमणा का डर अब भी

अलवर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शहर में स्कीम एक में बड़ पूजा कर� - Dainik Bhaskar
शहर में स्कीम एक में बड़ पूजा कर�

जिले भर में बड़ पूजन अमावस्या पर गुरुवार को महिलाओं ने बड़ के पेड़ की पूजा कर परिवार की खुशहाली के साथ कोरोना से मुक्ति की कामना की। संक्रमण के बीच में महिलाएं घरों से बाहर निकली। बड़ के पत्ते लगे कपड़े पहनने का आकर्षण भी दिखा। पहली बार महिलाओं ने बड़ पूजा कर महामारी से मुक्ति मांगी है।
काफी महिलाओं ने घरों पर पूजा की
कोरोना संक्रमण के कारण काफी महिलाओं ने घरों में रहकर ही पूजा की। कुछ ने आसपास के बड़ के पेड़ पर आकर वट सावित्री की कथा सुनी। घरों में पकवान बनाए गए। कोरोना संक्रमण कम होने से बड़ पूजा के प्रति महिलाओं में उत्साह दिखा है।
ये है मान्यता
महिलाओं के अनुसार हिन्दू परंपरा और रीति-रिवाजों के अनुसार वट सावित्री व्रत अपने अखंड सौभाग्य और पति की दीर्घायु के लिए रखती हैं। हर साल यह व्रत ज्येष्ठ मास की अमावस्या को रखा जाता है। इसी दिन शनि जयंती मनाने की भी परंपरा है। इस दिन बरगद के पेड़ की पूजा करके और उसके चारों ओर परिक्रमा लगाकर यह व्रत किया जाता है। कुछ महिलाएं इस दिन निर्जला व्रत भी करती हैं।

खबरें और भी हैं...