पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

भास्कर खास:पिछले साल जैसे भावों की उम्मीद में किसानों ने ज्यादा प्याज बाेई, निर्यात पर राेक से भाव कम रहने के अासार

अलवर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • नेपाल, बांग्लादेश व बर्मा तक जाता है अलवर का प्याज, इस बार जिले में बुआई का रकबा बढ़ेगा

जिले में इस बार प्याज अधिक क्षेत्र में बाेई जा रही है। पिछले साल थाेक में प्याज के भाव 105 रुपए प्रति किलाे तक पहुंच गए थे। इसे देखते हुए किसानाें ने ज्यादा प्याज बाेई है। पिछले साल बढ़े भावाें काे देखते हुए सरकार ने इस बार अभी प्याज के निर्यात पर राेक लगा दी है ताकि भाव बेकाबू नहीं हाें। स्थानीय व्यापारियाें का कहना है कि निर्यात पर राेक लगने से हमारे यहां का प्याज बर्मा, बांग्लादेश व नेपाल नहीं जा पाएगा।

उद्यानिकी विभाग के सहायक निदेशक लीलाराम चाैधरी का कहना है कि इस बार जिले में प्याज की अधिक बुआई की जा रही है। किसानाें ने प्याज की गंठी का अधिक उत्पादन किया। इसके अलावा गुजरात के तलाजा से भी प्याज की गंठियां मंगाई गई। इससे लगता है कि इस बार जिले में प्याज की बुआई 18 से 19 हजार हैक्टेयर के बीच हाे सकती है। पिछले साल 16 हजार 500 हैक्टेयर में प्याज की बुआई हुई थी।

निर्यात पर राेक से अलवर की प्याज के भावाें पर पड़ेगा कुछ असर : प्याज के प्रमुख व्यापारी एवं फल एवं सब्जी मंडी आढ़ती यूनियन के अध्यक्ष देवेंद्र छाबड़ा का कहना है कि इस बार जिले में ज्यादा रकबे में प्याज बाेई गई है। सरकार ने प्याज के भाव नियंत्रित रखने के लिए इसके निर्यात पर राेक लगा दी है। इससे अलवर की प्याज के भावाें पर ज्यादा असर नहीं पड़ेगा, क्याेंकि कर्नाटक व महाराष्ट्र में अधिक बारिश हाेने के कारण प्याज की फसल पर असर पड़ा है।

व्यापारी पप्पू भाई प्रधान का कहना है कि प्याज का निर्यात राेकने से हमारा प्याज इस बार नेपाल, बर्मा व बांग्लादेश नहीं जा पाएगा। अलवर का प्याज इन देशाें में सीधा नहीं जाता लेकिन इन देशाें की सीमा से लगते राज्याें के जरिए पहुंचता है। निर्यात पर राेक से भाव कुछ कम रह सकते हैं, लेकिन महाराष्ट्र व कर्नाटक में अधिक बारिश से प्याज की फसल काे नुकसान हाेने के कारण भाव ज्यादा गिरने की उम्मीद कम है। इससे अलवर की प्याज के भाव ठीक मिल सकेंगे।

अच्छे भाव की उम्मीद में ज्यादा प्याज बाेई

गांव बुर्जा का बास निवासी किसान बनेसिंह गुर्जर का कहना है कि पिछली बार 16 बीघा में प्याज बाेई थी। इस बार अच्छे भाव की उम्मीद में 20 बीघा में बाेई है, लेकिन निर्यात पर राेक से प्याज के भाव इस बार कम रह सकते हैं। अहमदपुर गांव के किसान रहमू का कहना है कि उन्हाेंने भी इस साल 6 बीघा के बजाए 10 बीघा में प्याज लगाई है।

निर्यात पर राेक लगने से भाव कम हाेंगे। बल्लाबाेड़ा के किसान अरमान का कहना है कि प्याज के बारे में इस बार कुछ नहीं कहा जा सकता है। इसलिए उन्हाेंने इस बार पिछले साल के मुकाबले कम प्याज बाेई है।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय पूर्णतः आपके पक्ष में है। वर्तमान में की गई मेहनत का पूरा फल मिलेगा। साथ ही आप अपने अंदर अद्भुत आत्मविश्वास और आत्म बल महसूस करेंगे। शांति की चाह में किसी धार्मिक स्थल में भी समय व्यतीत ह...

और पढ़ें