कोरोना से डरें नहीं सावधान रहें:बीते 21 दिन में 20 में से 11 संक्रमितों ने हाेम आइसाेलेशन में दी काेराेना काे मात

अलवरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शाहजहांपुर में 5 दिन में मात्र 175 सैंपल लिए गए हैं। - Dainik Bhaskar
शाहजहांपुर में 5 दिन में मात्र 175 सैंपल लिए गए हैं।

काेराेना से डरें नहीं, सावधान रहें! जरा सी लापरवाही संक्रमण काे तेजी से फैला सकती है, इसलिए घर से मास्क लगाकर ही निकलें और समय-समय पर हाथाें काे सैनेटाइज करें या फिर साबुन से धाेएं, क्याेंकि काेराेना अभी गया नहीं है। बुधवार काे भिवाड़ी के थड़ा और अलवर के शिवाजी पार्क में काेराेना के 2 नए केस मिले हैं। भिवाड़ी में 14 वर्षीय किशाेर और अलवर के शिवाजी पार्क में 23 वर्षीय युवती संक्रमित हुई है।

हालांकि बीते 21 दिनाें में मिले 20 संक्रमिताें में से 11 ने हाेम आइसाेलेशन में रहकर काेराेना काे मात दी है। बुधवार काे एक ही दिन में 5 काेराेना मरीजाें काे स्वस्थ हाेने पर डिस्चार्ज किया गया है। अभी जिले में 9 एक्टिव केस हैं और सभी हाेम आइसाेलेशन में रहकर इलाज ले रहे हैं।

चिकित्सा विशेषज्ञाें के अनुसार अभी काेराेना का संक्रमण एक से दूसरे लाेगाें में ज्यादा फैल नहीं रहा है, जिससे अधिक संख्या में लाेग संक्रमित नहीं हाे रहे हैं। हालांकि अभी काेराेना के ओमिक्राॅन वेरियंट का वैश्विक खतरा मंडरा रहा है, लेकिन देश में नए वेरियंट का एक भी संक्रमित नहीं हाेने के कारण अभी डरने की जरूरत नहीं है। काेराेना से बचाव के लिए वैक्सीन सुरक्षा कवच के रूप में काम कर रही है, इसलिए वैक्सीन की दाेनाें डाेज जरूर लगवाएं।

अभी तक जिले में 83.43 प्रतिशत लाेगाें ने पहली डाेज लगवाई है, जबकि पहली डाेज के मुकाबले 51.97 प्रतिशत लाेगाें काे दूसरी डाेज लगी है। वैक्सीन की दाेनाें डाेज में ज्यादा अंतर खतरनाक हाे सकता है। चिकित्सा विभाग के अनुसार जिले में अभी तक वैक्सीन की कुल 34.95 लाख डाेज लगी हैं, जिनमें से 23 लाख पहली अाैर 11.96 लाख दूसरी डाेज लग पाई है। उल्लेखनीय है कि जिले में 18 से अधिक उम्र के 27 लाख 56 हजार 611 लाेगाें काे वैक्सीन लगाने का लक्ष्य रखा गया है।

काेराेना की कम सैंपलिंग पर शाहजहांपुर बीसीएमओ काे नाेटिस
काेराेना की कम सैंपलिंग पर डिप्टी सीएमएचओ ने शाहजहांपुर बीसीएमओ काे नाेटिस जारी किया है। डिप्टी सीएमएचओ डाॅ. महेश बैरवा ने बताया है कि शाहजहांपुर में 5 दिन में मात्र 175 सैंपल लिए गए हैं, जबकि काेराेना केसाें के बढ़ने पर सैंपल बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं। अब जुकाम-खांसी व बुखार के मरीज, हाई रिस्क वाले व्यक्ति, विदेश से अाने वाले यात्रियाें के सैंपल लेने के साथ रैंडम सैंपलिंग के निर्देश दिए गए हैं

^अगर लापरवाही बरतेंगे ताे काेराेना संक्रमण एक से दूसरे लाेगाें में फैल सकता है। भीड़ में जाने से बचें अाैर घर से मास्क लगाकर ही निकलें। काेराेना का वेरियंट काेई भी हाे, प्राथमिक स्तर पर मास्क ही बचाव करेगा। वैक्सीन जरूर लगवाएं। वैक्सीन लगवाने के बाद संक्रमित ताे हाे सकते हैं, लेकिन अधिक गंभीर हाेने से बच सकेंगे।
- डाॅ. अाेमप्रकाश मीणा, सीएमएचअाे

खबरें और भी हैं...