• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Alwar
  • In The Organization's Program In Rajgarh, Sanjay Naruka Said That Everyone Is Seeing Their Benefit In The Party, Sadhus Also Came To Take Advantage In Politics.

अपनी ही पार्टी के निशाने पर भाजपा जिलाध्यक्ष:राजगढ़ में संगठन के कार्यक्रम में संजय नरूका बोल गए कि सब लोग पार्टी में अपना फायदा देख रहे, साधु भी राजनीति में फायदा लेने आए

अलवर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कार्यक्रम में मौजूद जिलाध्यक्ष संजय नरूका व अन्य पदाधिकारी। - Dainik Bhaskar
कार्यक्रम में मौजूद जिलाध्यक्ष संजय नरूका व अन्य पदाधिकारी।

भाजपा के जिलाध्यक्ष संजय नरूका खुद के बयान से अपनी ही पार्टी के निशाने पर आ गए है। उनका दो दिन पुराना राजगढ़ में संगठन के कार्यक्रम में संबोधन का वीडियो पार्टी के लोग ही शेयर कर रहे हैं। जिसमें जिलाध्यक्ष संजय नरूका बोल रहे हैं कि राजनीति में भी हर कोई खुद का फायदा देखता है। हम जो भी काम कर रहे हैं कि किसी पर अहसान नहीं कर रहे हैं। मैं भी अपना फायदा देख रहा हूं। साधु भी राजनीति में फायदा लेने आते हैं। चाहे कोई भी हो। एक्टर हो या डॉक्टर। केवल सेवा की बात करें तो व्यर्थ हैं। सेवा ही करते हैं तो विधानसभा व लोकसभा से किस बात की तनख्वाह लेते हैं। तनख्वाह लेने वाला सेवा का पैसा ले रहा है। मैं भी पार्टी में आया हूं तो खुद का काम भी कर रहा हूं। मैं आप लोगों को जान रहा हूं। आप मुझे जान रहे हो। जब कभी जरूरत पड़ेगी तो हम सब ही आपस में काम आएंगे।

बस इसी पर घेरना शुरू
जिलाध्यक्ष ने संगठन के कार्यक्रम में किसी पर भी सीधा बयान नहीं किया। लेकिन, फिर भी इस बयान को भाजप सांसद बालकनाथ सहित अन्य लोगों से जोड़ कर आलोचना की जाने लगी है। जिलाध्यक्ष ने केवल साधारण तौर पर यह कहा है कि साधु भी अपना फायदा देखकर ही राजनीति में आते हैं। अलवर के सांसद महंत बाबा बालकनाथ भी साधु हैं। इस कारण उनके इस बयान को सांसद से जोड़ने का प्रयास किया जाने लगा है। भाजपा के टिकट पर नगर परिषद अलवर से चेयरमैन का चुनाव लड़ चुके धीरज जैन ने कहा कि यह पार्टी की विचारधारा से उलट बयान है। जिससे नेताओं की छवि खराब हुई है। जिलाध्यक्ष को पद पर रहने का अधिकार नहीं है। जिन्होंने पैसे लेकर काम करने की बात की है। भाजपा के मण्डल अध्यक्ष रहे राजेश तिवाड़ी ने भी सोशल मीडिया पर कटाक्ष किया है।

फिर कहा मेरे वही बात
जिलाध्यक्ष नरूका ने अपने बयान के दो दिन बाद फिर कहा कि काम के बदले हर कोई अपना फायदा देखता है। चाह पद हो या कद। मैंने किसी व्यक्ति विशेष के लिए तो कहा नहीं है। हमारे सांसद बालकनाथ योगी ने तो कोरोना काल में खुद की जेब से 50 लाख रुपए की बड़ी मदद की है।

खबरें और भी हैं...