• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Alwar
  • Many Councilors Of Congress Are Involved In The Race For The Post Of Chairman, Former Union Minister Jitendra Singh And Cabinet Minister Tikaram Julie Will Decide

पूर्व मंत्री करेंगे फैसला:कांग्रेस के कई पार्षद सभापति पद की दौड़ में शामिल, फैसला पूर्व केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह व कैबिनेट मंत्री टीकाराम जूली करेंगे

अलवरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अलवर. उप सभापति घनश्याम गुर्जर के निलंबन के विराेध में कलेक्ट्रेट के बाहर धरना देते भाजपा पदाधिकारी, विधायक, पार्षद व कार्यकर्ता। - Dainik Bhaskar
अलवर. उप सभापति घनश्याम गुर्जर के निलंबन के विराेध में कलेक्ट्रेट के बाहर धरना देते भाजपा पदाधिकारी, विधायक, पार्षद व कार्यकर्ता।

नगर परिषद सभापति और उप सभापति के निलंबन के बाद अब इस बात पर चर्चा हो रही है कि अगला सभापति कौन होगा? खुद को संभावित दावेदार मानकर चल रहे कांग्रेस के कई पार्षद अपने-अपने समाज और कांग्रेस के नेताओं के माध्यम से सभापति की दौड़ में शामिल हैं। अब तक तीन गुटाें में बंटी कांग्रेस पार्टी अब कई गुटाें में बंटी नजर आ रही है।

सभापति पद की दाैड़ में प्रमुख रूप से नरेंद्र मीणा, अजय मेठी, प्रीतम मेहंदीरत्ता, सुखविंदर काैर, पिंकी रानी सैनी व देवेंद्र काैर का नाम लिया जा रहा है। कुछ पार्षद अपने निजी प्रयासाें से भी सभापति पद पर दावा पेश कर रहे हैं। हालांकि सभी गुट यह कह रहे हैं कि फैसला पूर्व केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह व मंत्री टीकाराम जूली काे करना है। दावेदारों में शामिल वार्ड 30 के पार्षद नरेंद्र मीणा काे कैबिनेट मंत्री टीकाराम जूली का खास माना जाता है। वे निलंबित सभापति बीना गुप्ता का विरोध करने वाले कांग्रेस के पार्षदों का नेतृत्व करते रहे हैं।

हालांकि मीणा के नाम पर कांग्रेस के पार्षदाें का एक गुट अलग राय रखता है, इसलिए आला कमान काे निर्णय लेने में कुछ परेशानी हो सकती है। एक बात मीणा के खिलाफ यह जाती है कि सभापति का पद सामान्य वर्ग के लिए आरक्षित है और मीणा एसटी वर्ग से हैं। कांग्रेस के कुछ नेता सामान्य वर्ग के पार्षद काे ही सभापति बनाने की बात कह रहे हैं। सभापति पद की दौड़ में वार्ड 59 के पार्षद अजय मेठी का नाम भी शामिल है। उन्हें सामान्य वर्ग का प्रत्याशी हाेने के साथ ही पार्षदाें के एक गुट का समर्थन मिल रहा है।

वैश्य वर्ग की सभापति बीना गुप्ता के निलंबन के बाद फिर से वैश्य वर्ग के किसी पार्षद काे सभापति बनाने की बात अजय मेठी के पक्ष में जाती है। कुछ पार्षदों ने मेठी का नाम पूर्व केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह के पास भी भेजा है। वार्ड 51 के पार्षद प्रीतम मेहंदीरत्ता काे भी सभापति पद का दावेदार माना जा रहा है। वे सामान्य वर्ग से हैं। पुरुषार्थी समाज इनके पक्ष में है। कांग्रेस का एक पक्ष पुरुषार्थी समाज के पार्षद काे सभापति बनाने की बात मजबूती से रख रखा है, जिससे भाजपा के वाेट बैंक माने जाने वाले पुरुषार्थी समाज में कांग्रेस अपनी अच्छी पैठ बना सके। मेहंदीरत्ता काे पहले नरेंद्र मीणा के गुट में शामिल माना जाता था। सभापति पद की दाैड़ में शामिल हाेने से माना जा रहा है कि उनकी दूरी अब पार्षद मीणा के गुट से बढ़ी है।

वार्ड 40 की पार्षद सुखविंदर काैर भी सभापति पद की दौड़ में शामिल हैं। वे सामान्य वर्ग से हैं। आर्थिक रूप से मजबूत मानी जाने वाली काैर का पक्ष सिख समुदाय के लाेग कर रहे हैं। हालांकि वे पहली बार पार्षद बनी हैं। यह उनका कमजाेर पक्ष भी है। इनके अलावा पिंकी रानी सैनी, देवेंद्र काैर और कुछ अन्य पार्षद भी इस दाैड़ में शामिल हैं। सैनी काे एक अच्छी छवि वाली पार्षद के रूप में देखा जाता है। हालांकि उनका अन्य पिछड़ा वर्ग से हाेना व सीट सामान्य हाेना उनके खिलाफ जाता है। देवेंद्र काैर सामान्य वर्ग से हाेने के कारण दावा पेश कर रही हैं।

उप सभापति के निलंबन के विराेध में भाजपा ने दिया धरना, सीएम का पुतला जलाया
नगर परिषद के उप सभापति घनश्याम गुर्जर को निलंबित किए जाने के विरोध में मंगलवार को भाजपा कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट पर धरना दिया, साथ ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का पुतला जलाकर विरोध-प्रदर्शन किया। बाद में कलेक्टर काे राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया। धरने के दौरान जिलाध्यक्ष संजय नरूका ने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार भ्रष्टाचार में डूबी हुई है।

कांग्रेस पार्टी की सभापति बीना गुप्ता को एसीबी ने रिश्वत लेते रंगेहाथ पकड़ा, लेकिन बीना गुप्ता को निलंबित करने में सरकार ने 21 दिन लगा दिए, क्योंकि उप सभापति भाजपा का है और नियमानुसार उप सभापति को सभापति पद का चार्ज देना पड़ता, इसलिए द्वेषतापूर्ण एवं कानून के विरुद्ध उप सभापति का निलंबन किया गया। शहर विधायक संजय शर्मा ने कहा कि सभापति चुनाव के समय धन, बल एवं सत्ता का दुरुपयोग कर कांग्रेस ने जन भावनाओं के खिलाफ अपना बोर्ड बनाया था। जिसका परिणाम शहर की जनता ने भ्रष्टाचार के रूप में देखा एवं अब न्यायालय में मामला विचाराधीन होने के बावजूद सरकार ने सत्ता का दुरुपयोग करते हुए निर्वाचित उप सभापति काे निलंबित कर दिया।

खबरें और भी हैं...