• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Alwar
  • More Than Double Dead Bodies Coming To Teejki Crematorium Ghat In Alwar City, Electric Corpse Burnt House Worth Rs 50 Lakh Was Damaged

अलवर के श्मशान में दोगुनी हुईं लाशें:शहर के तीजकी श्मशान में पहले रोजाना औसतन 4 शव आते थे, अब आठ; 50 लाख का इलेक्ट्रिक शवदाह गृह भी खराब पड़ा

अलवर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ये है इलेक्ट्रिक शव दाह गृह। - Dainik Bhaskar
ये है इलेक्ट्रिक शव दाह गृह।

अलवर शहर के तीजकी श्मशान घाट पर तीन साल पहले लगा इलेक्ट्रिक शवदाह गृह चार महीने से बंद पड़ा है। जिसके कारण इसका कोई उपयोग नहीं हो पा रहा। जबकि कोरोना महामारी में अकेले तीजकी श्मशान घाट पर पहले की तुलना में दोगुना शव आने लगे हैं। अब श्मशान घाट पर दबाव बढ़ा तो इलेक्ट्रिक शवदाह गृह की जरूरत पड़ सकती है। लेकिन, यह खराब पड़ा है।

ये है तीजकी श्मशान घाट। जहां रोजाना 8 से 10 शवों का अंतिम संस्कार हो रहा है।
ये है तीजकी श्मशान घाट। जहां रोजाना 8 से 10 शवों का अंतिम संस्कार हो रहा है।

एक दिन में 8 से 10 शव आ रहे
इस समय तीजकी श्मशान घाट पर 24 घण्टे में 8 से 10 शव का अंतिम संस्कार होने लगा है। जबकि कोरोना से पहले यह रफ्तार आधी थी। पहले दिन में औसतन चार शव का अंतिम संस्कार होता था। जयपुर, दिल्ली, गुड़गांव सहित आसपास के शहरों में महामारी से बड़ी संख्या में मौत होने लगी तो अलवर के इलेक्ट्रिक शवदाह गृह की याद आई है। बाद में पता चला यह करीब चार माह से खराब पड़ा है।

इलेक्ट्रिक शव दाह में अब तक 99 शव का संस्कार
तीजकी श्मशान घाट पर अब तक 99 लोगों को अंतिम संस्कार किया गया है। जिसमें से अधिकतर लावारिस हैं। सामान्य तौर पर लोग इलेक्ट्रिक शव दाह गृह में संस्कार करने से बचते हैं। लेकिन, अब महामारी में मौतों का आंकड़ा बढ़ा तो इसके अलावा कोई विकल्प नहीं है।

गुजरात से आना है कम्पनी का कर्मचारी
नगर परिषद के अधिकारियों ने बताया कि शवदाह गृह की मशीन गुजरात से मंगाई थी। वहीं की कम्पनी का प्रतिनिधि इसे ठीक करने आएगा। जिसे सूचना भिजवा दी है। लेकिन, इस महामारी के कारण विलम्ब हो रहा है। आगामी एक या दो दिन में इसे शुरू कराने की तैयारी है।

एक से डेढ़ घण्टे का समय
इलेक्ट्रिक शव दाह गृह में शुरूआत के शव का अंतिम संस्कार करने में करीब डेढ़ घण्टे का समय लगता है। इसके बाद लगातार दूसरे शव का अंतिम संस्कार किया जाए तो एक घंटा लगता है।