आरटीई में आवेदन करने वालों को सरकार ने दी राहत:निजी विद्यालय नाॅन आरटीई छात्रों के अनुपात में कर सकेंगे प्रवेश

अलवरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भूलवश निरस्त किए गए आवेदन पत्रों की नियमानुसार जांच कर उचित कार्यवाही कर सकेंगे। - Dainik Bhaskar
भूलवश निरस्त किए गए आवेदन पत्रों की नियमानुसार जांच कर उचित कार्यवाही कर सकेंगे।

निशुल्क शिक्षा का अधिकार कानून के तहत प्रवेश लेने वाले बच्चों व उनके अभिभावकों के लिए राहत की खबर है। सरकार ने आरटीई के कार्यक्रम को संशोधित करते हुए राहत दी है। इसके तहत निजी स्कूल 20 दिसंबर तक किए गए नाॅन आरटीई छात्रों के अनुपात में नियमानुसार आरटीई छात्रों को प्रवेश दे सकेंगे।

इसके लिए निर्धारित तिथि तक जैसे-जैसे नाॅनआरटीई छात्रों की एंट्री की जाएगी, पोर्टल द्वारा स्वत: ही वरीयता क्रम में आने वाले आरटीई छात्र संबंधित स्कूल के लाॅगिन में प्रवेश के लिए दिखने लगेंगे। यहां जरूरी यह है कि निजी स्कूलों को निर्धारित तिथि तक नाॅन आरटीई छात्रों की एंट्री पोर्टल पर हर हाल में करनी होगी।

ताकि वे आरटीई के प्रवेश कर सकें। दूसरा महत्वपूर्ण निर्णय यह लिया गया है कि 2021-22 में आरटीई प्रवेश के लिए जारी कार्यक्रम के अनुसार आवेदन पत्र में करेक्शन की स्थिति में स्कूल द्वारा जांच करने के तहत गैर सरकारी स्कूल ने जो आवेदन पत्र निरस्त किए थे, उन्हें सरकार ने अनलाॅक कर दिया है। मतलब अब स्कूल पूर्व में भूलवश निरस्त किए गए आवेदन पत्रों की नियमानुसार जांच कर उचित कार्यवाही कर सकेंगे। इसके साथ ही निजी स्कूल द्वारा आवश्यकतानुसार अतिरिक्त दस्तावेज जो भी जरूरी हों, आवेदनकर्ता से ऑफलाइन लिए जा सकेंगे और इन दस्तावेजों के आधार पर भी पूर्व में निरस्त किए गए आवेदन पत्रों को स्वीकृत कर सकेंगे।

निदेशक ने तमाम प्रारंभिक एवं माध्यमिक जिला शिक्षा अधिकारियों को आदेश दिए हैं कि तत्काल प्रभाव से अपने परिक्षेत्र के निजी स्कूलों को इस कार्यवाही के लिए पाबंद करें।

20 तक दस्तावेज जमा नहीं करने पर स्कूल देंगे सूचना
निदेशक कानाराम ने जारी आदेश में कहा है कि निजी स्कूल में सत्यापित आरटीई छात्र यदि स्कूल में 20 दिसंबर तक आवेदन की हस्ताक्षरित प्रति जमा नहीं करवाता है तो स्कूल द्वारा दूरभाष, एसएमएस व पत्राचार के माध्यम से बच्चे व अभिभावक से निर्धारित समय में संपर्क कर उसे जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी कि उनके द्वारा आवेदन की हस्ताक्षरित काॅपी स्कूल में जमा नहीं करवाई जाने पर उनका आरटीई में प्रवेश निरस्त कर दिया जाएगा। इसके बाद भी छात्र के प्रवेश के लिए इच्छुक नहीं होने की स्थिति में स्कूल द्वारा इन छात्रों को आरटीई प्रवेश से अलग कर दिया जाएगा।

आरटीई के एडमिशन काे लेकर निदेशक ने कुछ संशाेधन आदेश जारी किए हैं। इनमें अब स्कूल 20 दिसंबर तक नाॅन आरटीई के एडमिशन के अनुपात में एडमिशन ले सकेंगे। इसके अलावा जाे आवेदन पूर्व में निरस्त किए थे, उन्हें अनलाॅक किया गया है। इन पर पुनर्विचार हाेने से बड़ी संख्या में बच्चाें व अभिभावकाें काे फायदा हाेगा। -नेकीराम, डीईओ, एलीमेंट्री

खबरें और भी हैं...