• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Alwar
  • Ranking Of Government Schools Released, The Department Released The Ranking Of The State, Jaipur First And Udaipur Last At 33rd Position

अलवर 5 पायदान फिसल 10वें स्थान पर पहुंचा:सरकारी स्कूलों की रैंकिंग जारी, विभाग ने जारी की प्रदेश की रैकिंग, जयपुर पहले व उदयपुर अंतिम 33वें पायदान पर

अलवर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रैकिंग में 5 पायदान फिसलने के बाद अधिकारियाें से कुछ जवाब देते हुए नहीं बन रहा है। - Dainik Bhaskar
रैकिंग में 5 पायदान फिसलने के बाद अधिकारियाें से कुछ जवाब देते हुए नहीं बन रहा है।

शिक्षा विभाग की ओर से सरकारी स्कूलाें की रैकिंग जारी कर दी गई है। जिलेवार जारी रैकिंग में अलवर 5वें नंबर से खिसककर 10वें पायदान पर पहुंच गया है। शिक्षा विभाग के अधिकारियाें के बेहतर प्रबंधन और माॅनिटरिंग की पाेल इस रैकिंग में साफ खुलती हुई दिखाई दे रही है। हालांकि विभागीय अधिकारियाें का कहना है कि उजियारी पंचायत का डाटा फीड नहीं हाेने के कारण रैंकिंग कम रही है और इसका पूरा जिम्मा समग्र शिक्षा अभियान का था। जिम्मा किसी का भी हाे, लेकिन शिक्षा विभाग की रैकिंग में 5 पायदान फिसलने के बाद अधिकारियाें से कुछ जवाब देते हुए नहीं बन रहा है।

प्रदेश की रैंकिंग की बात करें ताे जयपुर पहले और उदयपुर अंतिम 33वें पायदान पर रहा है। गाैरतलब है कि शिक्षा विभाग की ओर से स्कूलों में दी जाने वाली सुविधाएं व प्रगति प्रत्येक माह शाला दर्पण पोर्टल पर अपलोड किए जाने के निर्देश हैं। इसके बाद प्रदेश स्तर पर स्कूल शिक्षा परिषद की ओर से प्रत्येक जिले की रैंकिंग जारी की जाती है। राजसमंद, जैसलमेर व उदयपुर को अंतिम तीन स्थानों पर रहने पर चेतावनी दी गई है कि वे इसे प्राथमिकता देते हुए सघन मॉनिटरिंग कर रैंकिंग में सुधार करने के प्रयास करें। इस संबंध में संयुक्त रूप से सम्बन्धित अधिकारियों के साथ बैठक कर कार्ययोजना तैयार करें तथा अगले माह में अपेक्षित प्रगति लाएं।

जिले में उजियारी पंचायत काे लेकर हुई डाटा फीडिंग में समस्या आई है। इसे दुरुस्त करवा रहे हैं। इस एक्टिविटी के 10 अंक हाेते हैं। फीडिंग में काेई इश्यू हाेने के कारणऐसा हुआ है। इसे ठीक करवा रहे हैं। इससे रैंकिंग पर प्रभाव पड़ सकता है। -केएल धावरिया, सहायक निदेशक, सीडीईओ कार्यालय

शाला दर्शन व शाला दर्पण पोर्टल पर अपलोड करनी होती हैं सूचनाएं
विद्यालयों की सभी सूचनाएं ऑनलाइन करने के लिए विभाग की ओर से प्रारम्भिक विद्यालयों के लिए शाला दर्शन व माध्यमिक स्तरीय विद्यालयों के लिए शाला दर्पण पोर्टल संचालित किया गया है। इनमें विद्यालयों की श्रेणी, बेसिक प्रोफाइल, कार्मिकों की संख्या, विद्यालयों की सुविधा, नामांकन की स्थिति, रिकाॅर्ड, वैकल्पिक विषय, संकाय, अक्षय पेटिका की स्थिति, कार्य संग्रहण, साइकिल वितरण समेत 44 बिंदुओं के आधार पर प्रदेश स्तर पर रैंकिंग की गई है। ये सूचनाएं शाला दर्पण में अपलोड की जानी होती हैं जबकि मिड-डे-मील, नामांकन, पुस्तकों की संख्या समेत अन्य सूचनाएं शाला दर्शन में अपलोड की जाती हैं।

प्रदेश में किस जिले काे कौन सी रैंकिंग मिली
शिक्षा विभाग की ओर से जारी सरकारी स्कूलाें की रैकिंग में 1 जयपुर, 2 बूंदी, 3 चूरू, 4 कोटा, 5 सीकर, 6 भरतपुर, 7 हनुमानगढ़, 8 टोंक, 9 गंगानगर, 10 अलवर, 11 सवाईमाधोपुर, 12 धाैलपुर, 13 चित्ताैड़गढ़, 14 झालावाड़, 15 झुंझुनूं, 16 सिरोही, 17 करौली, 18 बांसवाड़ा, 19 बीकानेर, 20 भीलवाड़ा, 21 अजमेर, 22 पाली, 23 दौसा, 24 नागौर, 25 बारां, 26 जालौर, 27 बाड़मेर, 28 डूंगरपुर, 29 प्रतापगढ़, 30 जोधपुर, 31 राजसमंद 32 जैसलमेर व 33वें पायदान पर उदयपुर रहा।

खबरें और भी हैं...