10 करोड़ के लिए अलवर के बिजनेसमैन की हत्या:मर्डर में पपला गैंग का एक गुर्गा शामिल, हरियाणा से गिरफ्तार

अलवर2 महीने पहले
ये तीन आरोपी गिरफ्त में। बीच में बलजीत उर्फ बल्ली, जो पपला गैंग का गुर्गा।

अलवर शहर के 63 साल के सट्टा किंग व व्यापारी घनश्याम सैनी की हत्या का बुधवार को खुलासा हो गया। व्यापारी का अपहरण कर 10 करोड़ रुपए की फिरौती मांगी गई थी। नहीं देने पर सुनसान जगह ले जाकर पैर तोड़ दिए और पीट-पीट कर हत्या कर दी। इस वारदाता में पपला गैंग का सपोटर तिजारा के टिहरी गांव निवासी बलजीत उर्फ बल्ली (25) मुख्य आरोपी है। कुल 6 बदमाशों ने वारदात की। इसमें 3 अलवर शहर के हैं। पुलिस ने अनुसार व्यापारी को इतना पीटा कि सदमें में मौत हो गई। इनमें से 5 अभियुक्त के खिलाफ पहले से मुकदमें भी दर्ज हैं। पुलिस ने बलजीत को पलवल हरियाणा से, अशोक (28) को मुंडावर से और विशाल (19) को अलवर शहर के लादिया मोहल्ले से गिरफ्तार किया है।

ऐसे किया था किडनैप
SP तेजस्वनी गौतम ने बताया कि 29 जुलाई को प्रतापबास निवासी व्यापारी घनश्याम सैनी सुबह करीब साढ़े नौ बजे अपने घर से स्कूटी से निकला था। पहले जुबली बास के पास सेविंग कराने गया। वहां सेविंग कराकर जाने लगा तब बदमाशों ने किडनैप किया। एक बदमाश घनश्याम सैनी के पास गया। कहा कि साहब बुला रहा हैं। स्कॉर्पियो कार की तरफ इशार किया। कार में एक NCC की वर्दी पहने अभियुक्त मोंटी उर्फ कमल निवासी हरसौली ने घनश्याम सैनी को रुकवाया। स्कॉर्पियों में बैठे बलजीत उर्फ बल्ली, अमित सोनी, अशोक उर्फ झन्नू के पास भेजा। तभी अमित सोनी ने व्यापारी को स्कॉर्पियों में बैठा रवाना हो गए।

मोंटी स्कूटी लेकर गया
वहां से व्यापारी की स्कूटी को अभियुक्त मोंटी उर्फ कमल चलाकर ले गया। अभियुक्त अप्पू उर्फ राजा एक मोटरसाइकिल पर निकला। इसके बाद अप्पू उर्फ राजा व मोंटी सेनी ने मृतक की स्कूटी व मोटरसाइकिल को किसी दूसरी जगह खड़ा कर दिया। फिर ये दोनों भी स्कॉर्पियों में बैठ कर निकल गए।

29 जुलाई को घनश्याम सैनी रोड किनारे पड़े मिले थे। पैरों से खून निकल रहा था। हालांकि उनके गले में करीब 5 तोला सोने की चेन थी। बदमाश उसे लेकर नहीं गए थे।
29 जुलाई को घनश्याम सैनी रोड किनारे पड़े मिले थे। पैरों से खून निकल रहा था। हालांकि उनके गले में करीब 5 तोला सोने की चेन थी। बदमाश उसे लेकर नहीं गए थे।

यहां से होते हुए तिजारा गए
यहां के बाद पांचों बदमाश स्कॉर्पियो से विजय मंदिर, खैरथल, बघेरी, जटियाना होते हुए जैरोली के जंगल में पहुंचे। वहां घनश्याम सैनी से छोड़ने के एवज में 10 करोड़ रुपए मांगे। बादमाश कम करते-करते 40 लाख रुपए मांगने लगे। फिर व्यापारी को डराया व धमकाया। डंडों से मारपीट की। इतना मारा कि पैर फ्रैक्चर हो गए। खून ही खून बहता रहा। जब राशि देने से मना कर दिया तो व्यापारी की पीट-पीट कर हत्या कर दी। बाद में ये व्यापारी को तिजारा के निकट नौरंगाबाद में लाकर रोड किनारे पटक दिया। व्यापारी के मोबाइल से ही 108 एंबुलेंस को सूचना दी। ताकि यह एक एक्सीडेंट लगे।

घटना के दिन मृतक के बेटे अनिल से पूछताछ कर रही पुलिस। फाइल फोटो।
घटना के दिन मृतक के बेटे अनिल से पूछताछ कर रही पुलिस। फाइल फोटो।

ये आरोपी गिरफ्त से बाहर
अभी पुलिस को अभियुक्त अप्पू उर्फ राजा सोलंकी, अमित सोनी व मोंटी सैनी की तलाश है। पुलिस की टीम पड़ताल में लगी हैं। अन्य अभियुक्त भी मिले तो गहनता से जांच चल रही है। बताया गया कि विशाल अलवर के डायमंड हॉस्पिटल में काम करता है। जिसने नाई की दुकान में जाकर यह पहचान की थी कि दाढ़ी मूंछ वाला व्यक्ति बैठा हुआ है। अभी पुलिस अलवर शहर के तीन युवकों की इस वारदात में भूमिका की पूरी पड़ताल करने में लगी है।

अलवर शहर के युवक पर दर्ज है मामला

लादिया मोहल्ला निवासी अप्पू उर्फ राजा सोलंकी पुत्र पूरण सिंह अपराधिक प्रवृति का है। उसने घनश्याम सैनी से रकम वसूलने की योजना बनाई। इसने पपला गैंग के गुर्गे बलजीत उर्फ बल्ली से संपर्क किया। इस वारदात को अंजाम देने के लिए अलवर बुलाया। 29 जुलाई को बलजीत अपने साथी अशोक उर्फ झुन्नू मीणा टिहरी निवासी तिजारा सुबह सात बजे अलवर आ गए। यहां आकर अप्पू उर्फ राजा सोनी से संपर्क किया। अप्पू अपने साथी अमित सोनी पुत्र रमेश सोनी निवासी लादिया मोहल्ला और मोंटी सैनी उर्फ कमल निवासी हरसोली के साथ आया। अप्पू, मोंटी व विशाल ने घटना से एक दिन पहले भी घनश्याम सैनी के घर के आसपास रैकी की थी। 29 जुलाई को जब व्यापारी घनश्याम सैनी नाई की दुकान पर था। तब विशाल को भेजकर रैकी कराई थी। बाद में विशाल चला गया था। फिर व्यापारी सैनी के बाहर आने पर उसका किडनैप किया गया था।