भष्टाचार में सभापति को जमानत नहीं:20 दिसम्बर तक जेल भेजा, 15 दिन पूरे होने के बाद अलवर एसीबी कोर्ट में दुबारा पेश किया था

अलवर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोर्ट में सभापति बीना गुप्ता। - Dainik Bhaskar
कोर्ट में सभापति बीना गुप्ता।

कांग्रेस नेता व नगर परिषद सभापति बीना गुप्ता को एसीबी ने मंगलवार को दूसरी बार कोर्ट में पेश किया। जहां से उसे 20 दिसम्बर तक जेल भेज दिया है। सभापति की जमानत को लेकर हाईकोर्ट जयपुर में भी जमानत याचिका लगाई है। वहां सुनवाई की तारीख 9 दिसम्बर है। 15 दिन पहले सभापित बीना गुप्ता व उनके बेटे कुलदीप को एसीबी ने घर पर 80 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया था। इसके बाद सभापति को 15 दिन जेल भेज दिया था। अब दूसरी बार एसीबी ने सभापति व उसके बेटे को न्यायालय में पेश किया गया। न्यायालय ने 20 दिसम्बर तक जेल भेजने के आदेश दिए। अब वापस 21 दिसम्बर को सभापति को कोर्ट में पेश किया जाएगा। हालांकि सभापति के वकील ने जयपुर हाईकोर्ट में जमानत याचिका लगा रखी है। जिस पर सुनवाई 9 दिसम्बर को होगी।

3 लाख 50 हजार रुपए रिश्वत मांगना सामने आया
एसीबी के अधिकारियों ने ट्रैप की कार्रवाई के समय बताया था कि सभापति बीना गुप्ता व उसके बेटे ने ऑक्सनर से 3 लाख 50 हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी। ऑक्सनर को चेक भी घर से दिए थे। बिल पास करने के एवज में मोटी रिश्वत मांगी थी। जिसके तहत सभापति व उसके बेटे को 80 हजार रुपए लेते हुए गिरफ्तार किया गया था। हालांकि बाद में सभापति ने कहा था कि उनको फंसाया गया है।

नगर परिषद में नहीं मिल रहे पट्टे
सभापति के ट्रैप होने के कारण नगर परिषद में पट्टा वितरण का कार्यक्रम प्रभावित हुआ है। अब भी परिषद में पट्टाें का कामकाज ठप है। सभापति के जेल जाने के बाद से आगे विभाग की तरफ से कार्रवाई नहीं की गई। नियमानुसार सभापति के ट्रैप होने के बाद पद की जिम्मेदारी दूसरे पार्षद को दी जाती है। या फिर उप सभापति को चार्ज दिया जाता है। लेकिन सरकार ने अब तक कोई फैसला नहीं लिया। इस कारण परिषद में कामकाज भी प्रभावित हो रहे हैं।

रिश्वतखोर अलवर नगर परिषद सभापति गिरफ्तार:बेटे के साथ 80 हजार रुपए लेती हुई घर पर ट्रैप, बोलती थीं- पहले रिश्वत, फिर होगा पेमेंट

खबरें और भी हैं...