पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इंसानियत:चेन्नई से बेटा नहीं पहुंच पाया ताे नगर परिषद की टीम ने दफनाया; ईसाई समुदाय के व्यक्ति की हार्ट अटैक से हुई थी मौत

अलवर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

काेराेना महामारी में इंसानियत की उजली तस्वीर सामने आ रही है। शहर की अंबेडकर काॅलाेनी में हार्ट अटैक से तमिलनाडु के एक व्यक्ति की माैत हाे गई। चेन्नई से मृतक का बेटा अलवर नहीं आ सका ताे नगर परिषद की टीम ने शांतिकुज कब्रिस्तान में ईसाई धर्म के रीति-रिवाज के अनुसार शव को दफनाया।

नगर परिषद की 15 सदस्यीय टीम में सीएसआई राजकुमार सैनी सहित सभी सफाई कर्मी हिंदू धर्म के थे। इस टीम ने पहले ताे ईसाई धर्म के लाेगाेें से अंतिम संस्कार की प्रक्रिया समझी और फिर उसे दफनाया। जानकारी के अनुसार, शुक्रवार सुबह मूलत: तमिलनाडु के सेलम जिले के निवासी पुष्पराज (60) की हार्ट अटैक से माैत हाे गई। यह परिवार अलवर के अंबेडकर नगर में रहता है।

पुष्पराज का बेटा चेन्नई में हाेने के कारण अंतिम संस्कार में नहीं आ सका ताे उनके मिलने वाले अमलराज ने नगर परिषद के कंट्राेल रूम को इसकी सूचना दी। नगर परिषद की एंबुलेंस से शव काे शांतिकुंज कब्रिस्तान पहुंचा गया और काेविड प्राेटाेकाॅल के तहत दफनाने की प्रक्रिया पूरी की गई। मृतक पुष्पराज का बेटा चेन्नई में पढ़ता है। परिवार में पत्नी व दाे बेटी हैं। अमलराज ने बताया कि ये काेविड राेगी नहीं थे और न ही इन्हें काेई परेशानी थी। सुबह टाॅयलेट करने के बाद बिस्तर पर लेटे ताे फिर उठे नहीं।

101 शवों का अंतिम संस्कार करा चुकी टीम
काेराेना की दूसरी लहर में नगर परिषद की टीम शुक्रवार तक 101 शवों का अंतिम संस्कार करा चुकी है। मुख्य सफाई निरीक्षक राजकुमार सैनी ने बताया कि नगर परिषद की टीम महामारी में हर धर्म के मृतकों का अंतिम संस्कार करा रही है। नगर परिषद ने अंतिम संस्कार के लिए 2 एंबुलेंस और 15 कर्मचारियाें की टीम लगा रखी है।

खबरें और भी हैं...