आत्‍महत्‍या का मामला:काॅलेज प्राेफेसर ने बच्चों के झूले की रस्सी से फांसी लगाई, कारणों का पता नहीं चला

अलवर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मनाेज चाैधरी। - Dainik Bhaskar
मनाेज चाैधरी।
  • मुंडावर के राजवाड़ा का निवासी था, बुध विहार ए ब्लॉक में रहता था

शहर की बुध विहार काॅलाेनी में रहने वाले 40 वर्षीय काॅलेज प्रोफेसर मनाेज चौधरी ने बुधवार देर रात घर के पोर्च में लटके बच्चों के झूले की रस्सी से फांसी लगाकर सुसाइड कर लिया। वह माता-पिता का इकलौता बेटा था। प्रो. मनाेज मूलरूप से मुंडावर क्षेत्र के गांव राजवाड़ा का रहने वाला था और अभी ए-133 बुध विहार स्थित मकान में परिवार के साथ रहता था। वह जिले के लक्ष्मणगढ़ के सरकारी काॅलेज में राजनीति विज्ञान के प्रोफेसर था। शादी करीब 10 साल पहले हुई थी।

परिजनों काे गुरुवार तड़के 4.30 बजे जागने पर घटना का पता चला। परिजनों ने फांसी पर लटके मनाेज काे नीचे उतारा और सामान्य अस्पताल ले गए, जहां डाॅक्टराें ने उसे मृत घोषित कर दिया। सूचना पर शिवाजी पार्क थाना पुलिस ने पहुंचकर माैका मुआयना किया। साथ ही मृतक के परिजनों से प्रोफेसर के सुसाइड के बारे में पूछताछ की। लेकिन, पुलिस काे उसके आत्महत्या के कारणों का अभी पता नहीं चला है।

थानाधिकारी हरिसिंह ने बताया कि प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि प्रो. मनाेज ने फांसी लगाकर आत्महत्या की है। पूछताछ में मृतक के पिता रोहिताश चौधरी ने पुलिस काे बताया कि सुबह करीब 4.30 बजे जागने पर उसने मकान की गैलेरी का दरवाजा खाेलाे ताे बेटा मनाेज पोर्च में झूले की रस्सी से फांसी पर लटका मिला।

उसने मकान में साे रहे परिवार अन्य लाेगाें काे इसके बारे में बताया। साथ ही फांसी पर लटके मनाेज काे नीचे उतारकर अस्पताल ले गए। अभी इस संबंध में मृतक के परिजनों ने पुलिस में रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई है। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करवाया है।

रात में परिवार के साथ खाना खाया था

प्राे. मनाेज के सुसाइड से पूरा परिवार स्तब्ध है। परिजनों के अनुसार, मनाेज ने कभी किसी भी तनाव के बारे में किसी से काेई जिक्र नहीं किया था। वह बुधवार देर शाम काे अपनी दाेनाें बेटियाें काे पार्क घुमाकर लाया था। रात 9.30 बजे उसने परिवार के साथ खाना खाया था। उसके मन में क्या चल रहा था, यह हमें पता नहीं।

पत्नी पाॅलिटेक्निक में शिक्षक व मां पूर्व जिला पार्षद :

प्राे. मनाेज की बड़ी बेटी सानवी कक्षा दाे में पढ़ती है। छाेटी बेटी मिसिका ढाई साल की है। पत्नी सीमा पॉलिटेक्निक काॅलेज में शिक्षक के पद कार्यरत है। मां सरिता देवी चौधरी मुंडावर क्षेत्र से पूर्व में जिला पार्षद रह चुकी है। पिता रोहिताश चौधरी बिजनेस के साथ खेती का काम संभालते हैं।

खबरें और भी हैं...