पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

घर-घर औषधि याेजना:इम्युनिटी बढ़ाने वाले तुलसी, गिलोय, अश्वगंधा व कालमेघ के पौधे घर-घर पहुंचाएगी सरकार

अलवर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले में वन विभाग 13 नर्सरियों में तैयार करेगा 28 लाख पौधे, जुलाई से होगा निशुल्क वितरण

कोरोना काल में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली तुलसी, अश्वगंधा, गिलोय और कालमेघ के औषधीय पौधे सरकार घर-घर पहुंचाएगी। वन विभाग 28 लाख से अधिक पौधे तैयार करेगा, जिनका जुलाई में निशुल्क वितरण किया जाएगा। इसके लिए लक्ष्य से 10 प्रतिशत अधिक पौधे तैयार किए जाएंगे। इन पौधों का वितरण आधार कार्ड या जनआधार कार्ड से किया जाएगा।

विभागीय स्तर पर ये पौधे जिले की 7 रेंज की 13 स्थाई नर्सरियों में तैयार किए जाएंगे। वन विभाग पौधे तैयार करने के लिए कुछ स्थानों पर अस्थाई नर्सरी बनाने की योजना बना रहा है। इसके लिए सरकार ने वन महोत्सव की जगह घर-घर औषधि योजना शुरू की है। सरकार इस योजना को जन अभियान के रूप में चलाएगी, जिससे लोग औषधीय पौधों के प्रति जागरूक हो सकें और संक्रमण से बचाव सहित अन्य बीमारियों से बचने के लिए इम्युनिटी पावर बढ़ाने के लिए इनका उपयोग कर सकें।

सरकार की ये योजना 5 साल तक चलेगी। इस अवधि में प्रत्येक परिवार को तुलसी, गिलोय, अश्वगंधा व कालमेघ के दो-दो पौधे यानी कुल 8 पौधे थैलियों में इस साल उपलब्ध कराए जाएंगे। इस साल सहित पांच साल में तीन बार वन विभाग की नर्सरियों से पौधे उपलब्ध कराए जाएंगे। वन विभाग बारिश के मौसम से पहले पौधे तैयार करेगा और नर्सरियों सहित सरकारी कार्यालयों और अस्पतालों से भी वितरण किया जा सकेगा। जुलाई में प्रथम चरण में पौध वितरण शुरू होगा। पौध तैयारी पूरी होने के बाद अक्टूबर में दूसरा चरण शुरू किया जाएगा।

अलवर की इन 7 रेजों में सर्वाधिक पौधे तैयार होंगे: सामाजिकी वानिकी की 7 रेंज अलवर, थानागाजी, बहरोड़, राजगढ़, लक्ष्मणगढ़, तिजारा और किशनगढ़बास रेंज की 13 स्थाई व कुछ अस्थाई नर्सरियों में पौधे तैयार होंगे। पहले साल प्रदेश में दूसरे नंबर पर अलवर जिले में सर्वाधिक 28 लाख 1 हजार 314 पौधे तैयार किए जाएंगे और 6 लाख 36 हजार 660 परिवारों को वितरण किए जाएंगे। इससे ज्यादा जोधपुर में 28 लाख 32 हजार 183 पौधे तैयार होंगे। जयपुर जिला दो वन मंडलों में बंटने के कारण वहां 25.75-25.75 लाख पौधे तैयार किए जाएंगे।

जिले की नर्सरियों में 28 लाख से ज्यादा पौधे तैयार किए जाएंगे और जुलाई से परिवारों को निशुल्क वितरण किए जाएंगे, जिससे लोग आयुर्वेद के महत्व को जान सकें और इस अभियान से जुड़ कर इसे सफल बना सकें।
- अपूर्व कृष्ण श्रीवास्तव, उप वन संरक्षक सामाजिकी वानिकी मंडल अलवर

संक्रमण काल में इम्युनिटी बढ़ाने के लिए तुलसी, गिलोय, अश्वगंधा और कालमेघ के औषधीय पौधे बेहद कारगर हैं। ये औषधियां संक्रमण से सुरक्षा कवच के रूप में काम करती हैं। पोस्ट कोविड मरीजों में संक्रमण के साइड इफेक्ट को दूर करने में बेहतर हैं।
- डाॅ. अनिल जैन, आयुर्वेदिक चिकित्सक

परिवारों के स्वास्थ्य की सुरक्षा सरकार का मुख्य उद्देश्य

  • औषधीय पौधे उगाने के इच्छुक परिवारों को स्वास्थ्य रक्षण के लिए वन विभाग की नर्सरियों से उपलब्ध कराना।
  • इम्युनिटी बढ़ाने एवं चिकित्सा के लिए बहुउपयोगी औषधीय पौधों की उपयोगिता के प्रति जन जागरूक करना।
  • औषधीय पौधों के प्राथमिक उपयोग एवं संरक्षण के लिए आयुर्वेद एवं भारतीय चिकित्सा विभाग के सहयोग से प्रमाणिक जानकारी उपलब्ध कराना।
  • जिला प्रशासन एवं वन विभाग के नेतृत्व में जनप्रतिनिधियों, पंचायतीराज संस्थाओं, सरकारी विभाग, स्कूल और औद्योगिक संस्थानों का सहयोग लेकर जन अभियान चलाना।

ये विभाग देंगे सहयोग
इस योजना में आयुर्वेद, पर्यावरण, कृषि, स्वायत्त शासन, नगरीय विकास एवं आवासन, पंचायती राज, पशुपालन, महिला एवं बाल विकास, जनजाति क्षेत्रीय विकास, उद्योग, शिक्षा, युवा मामले एवं खेल, अल्पसंख्यक मामलात, सूचना एवं जनसंपर्क, सामाजिक न्याय व अधिकारिता, कृषि अनुसंधान केन्द्र सफल बनाने में योगदान देंगे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

    और पढ़ें