• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Alwar
  • The Minor Suffered For An Hour In A Bloody Condition, The Condition Was Critical; The Poor Are Out Of The Grip Of The Police

नाबालिग को गैंगरेप के बाद पुलिया पर फेंक गए दरिंदे:बोल-सुन नहीं सकती बच्ची, 1 घंटा लहूलुहान तड़पती रही, CCTV छानकर भी खाली हाथ पुलिस

अलवर6 महीने पहले

नाबालिग बच्ची को गैंगरेप के बाद अलवर में एक पुलिया पर फेंकने का मामला सामने आया है। लहूलुहान किशोरी एक घंटे तक पुलिया पर तड़पती रही। सूचना पर पहुंची पुलिस उसे स्थानीय अस्पताल ले गई। हालत गंभीर होने पर डॉक्टरों ने देर रात नाबालिग को जेके लोन अस्पताल जयपुर रेफर कर दिया। पीड़िता का ऑपरेशन किया जा रहा है। गैंगरेप के आरोपी दरिंदों को अब भी पुलिस पकड़ नहीं पाई है।

बाद में पता चला मूक बधिर है

पुलिस अधीक्षक तेजस्वनी गौतम ने बताया कि तिजारा फाटक पुलिया पर गैंगरेप के बाद नाबालिग को फेंका गया था। लहूलुहान नाबालिग चिल्ला भी नहीं सकी। जब उसे अस्पताल ले गए तो डॉक्टरों ने जांच की तब जाकर पता चला कि वो मूक बधिर है। पुलिस दरिंदों की तलाश में जुटी है। सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं। पुलिस की तीन टीम बदमाशों की तलाश में लगी हैं।

रात को SP समेत तमाम अधिकारी मौके पर पहुंचे। आरोपियों की तलाश के लिए सीसीटीवी खंगाले जा रहे हैं।
रात को SP समेत तमाम अधिकारी मौके पर पहुंचे। आरोपियों की तलाश के लिए सीसीटीवी खंगाले जा रहे हैं।

जेके लोन अस्पताल के अधीक्षक डॉ. अरविंद शुक्ला ने बताया कि 7 डॉक्टरों की टीम बच्ची का इलाज कर रही है। इसमें गायनेकोलॉजिस्ट, प्लास्टिक सर्जन भी शामिल हैं। बच्ची को शॉर्प ऑब्जेक्ट से बुरी तरह घायल किया गया है। फिलहाल उसकी हालत स्थिर है।

बच्ची को दरिंदों ने पुलिया पर फेंका
पुलिस को देर रात पता चला कि नाबालिग मूक-बधिर मंगलवार शाम करीब 4 बजे मालाखेड़ा से अलवर की तरफ आई थी। वह टेंपो में बैठी थी। उसके बाद गैंगरेप की वारदात हुई है। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि कार सवार लोगों ने नाबालिग को पुलिया पर फेंका है। यह भी हो सकता है कि नाबालिग को तिजारा फाटक पर बनी पुलिया से नीचे फेंकने के चक्कर में यहां लेकर आए, लेकिन नीचे नहीं फेंक पाए। इसके बाद पुलिया पर पड़ी नाबालिग को देखकर लोगों ने शिवाजी पार्क थाने में फोन किया।

अगवा कर किया गैंगरेप
पुलिस का मानना है कि मालाखेड़ा के पास धवाला से नाबालिग का अपहरण किया गया है। इसके बाद बदमाश उसे सुनसान जगह लेकर गए। गैंगरेप के बाद नाबालिग की हालत बिगड़ी तो उसे पुलिया पर फेंका गया है। रात से पुलिस ने कई जगहों पर सीसीटीवी खंगाले हैं, फिर भी पुलिस अभी खाली हाथ ही है। मामले का जल्दी खुलासा हो सकता है।

अलवर में अपराध बेलगाम
अलवर जिले में अपराध पहले से बेलगाम है। यहां गैंगरेप की आए दिन घटनाएं सामने आती रही हैं। कुछ समय पहले थानागाजी में हुए गैंगरेप के मामले में देश भर में बदनामी हुई थी। अब मूक बधिर से गैंगरेप कर उसे लहूलुहान हालत में पुलिया पर फेंकने की वारदात हुई है।

खबरें और भी हैं...