किडनैपिंग के झूठे मामले पर भी पुलिस चुप:फेक किडनैपिंग की कहानी रचने वाले ने एसपी तक काे दाैड़ाया, अब पकड़ में आया तो कहानी छुपाई जा रही

अलवर8 महीने पहले
ग्रामीण मिले थे थानेदार से।

अलवर के रामगढ़ के दोहला गांव में 45 साल के व्यक्ति के किडनैपिंग के झूठे मामले ने दो दिन पहले पूरे पुलिस महकमें को परेशानी में डाला। एसपी तेजस्वनी गौतम तक मौके पर पहुंची। लेकिन बाद में किडनैपिंग झूठा निकला। लेकिन झूठे अपहरण की कहानी बनाने वाले व्यक्ति को बीमार होने के बहाने जाने दिया गया। जिसके कारण अब तक यह पता नहीं लग सका कि किडनैपिंग की झूठी कहानी क्या रही। इससे नाराज होकर ग्रामीण पुलिस से मिले। अपनी नाराजगी जताते हुए कहा कि दूसरों को परेशान करने की नीयत से किडनैपिंग की पहले भी झूठी कहानी सामने आ चुकी है। इस मामले में सख्ती से कार्रवाई हो। लेकिन अब तक पुलिस यह पता नहीं लग सकी है कि किडनैपिंग की झूठी कहानी क्या है। पुलिस अधिकारी यही कह रहे हैं कि बीमार होने के कारण व्यक्ति को भेज दिया गया। जल्दी पूछताछ की जाएगी।

क्या थी कहानी
रामगढ़ के दोहली गांव के रामनारायण जाटव ने बेटे को फोन बिलखते हुए अपहरण होना बताया। 2 लाख रुपए की मांग सामने आई। लेकिन रामनारायण जाटव को करीब 4 किमी दूर मंदिर पर किसी ने देख लिया। इसके बाद रामनारायण दूसरे गांव पहुंच गया। वहां भी लोगों ने पहान लिया। जब उसे पुलिस के हवाले किया गया। इससे पहले परिजन अपने पिता के आए फोन की ऑडियो से बता रहे थे कि अपहरण हो गया। लेकिन यह मामला पूरी तरह झूठा निकला।

फिर बीमार बता ले गए
इसके बाद रामनारायण जाटव को बीमार बता अस्पताल ले गए। अब तक पुलिस यह पता नहीं कर सकी है कि किडनैपिंग की झूठी कहानी क्यों बनाई गई। रामगढ़ क्षेत्र में यह झूठा किडनैपिंग अब तक चर्चा में है। वहां के लोग जानना चाहते हैं कि झूठी कहानी क्यों बनाई गई। पुलिस भी यह कहकर पल्ला झड़ रही है कि व्यक्ति अस्पताल में है। बीमार होने के कारण उसे भेज दिया गया। जल्दी पूछताछ कर पता किया जाएगा।

इधर, ग्रामीणों ने विरोध जताया
इधर दोहली गांव के ग्रामीणों ने थानाधिकारी से मुलाकात की। बताया कि यह झूठा मामला है तो पूरी कहानी बताई जाए। पहले भी एक व्यक्ति ने गलत नीयत से झूठी अपहरण की कहानी बनाई थी। उसी तरह यह कहानी सामने आई है। गांव वालों ने व्यक्ति से पूछताछ की। लेकिन वह बार-बार अपने बयानों को बदलता रहा। जिससे साफ जाहिर है कि झूठी कहानी है। पुलिस का कहना है कि जल्दी मामले का पता कर लिया जाएगा। अभी व्यक्ति के इलाज के कारण उसे जाने दिया गया है।