पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वैक्सीन में धांधली:ये वीआईपी भी हैं हेल्थ वर्कर; तेल कारोबारी डाटा और बिजनेसमैन धर्मेंद्र ने लगवाई वैक्सीन

अलवरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सीएमएचओ बोले- करीबी संपर्क वाले स्टाफ को शामिल करना था

तेल के प्रमुख कारोबारी विजय डाटा और धर्मेंद्र अग्रवाल को आप बिजनेस मैन के रूप में पहचानते होंगे। लेकिन यह जानकर आश्चर्य होगा कि ये हैल्थ वर्कर भी हैं। कोरोना वैक्सीनेशन में इन दोनों को भी वैक्सीन लगाई गई है। अब सवाल यह उठ रहा है कि जब सरकार के आदेश पहले हैल्थ वर्कर और बाद में फ्रंट लाइन कोरोना वारियर्स को ही वैक्सीन लगाने के थे तो इनका चयन किस आधार पर हुआ। वैक्सीन इन्हें सांठ-गांठ के जरिए लगी है या फिर नियमानुसार ऐसा हुआ है। भास्कर ने पड़ताल की तो सामने आया कि दोनों ने ही वैक्सीन बतौर हैल्थ वर्कर लगवाई है।

पड़ताल में यह भी सामने आया है कि दोनों बिजनेसमैन प्राइवेट ब्लड बैंक में पद पर हैं। सूत्रों का यह भी कहना है कि किसी निजी अस्पताल के जरिए इनका नाम वैक्सीन लगवाने वालों की सूची में शामिल किया गया था। सरकार के हैल्थ वर्कर को वैक्सीन के आदेश के बाद सीएमएचओ ने सभी प्राइवेट अस्पतालों से उनके स्टाफ की लिस्ट मांगी थी, ब्लड बैंक से कोई लिस्ट सरकार ने नहीं ली,फिर इनका नाम किस अस्पताल के स्टाफ में शामिल किया गया , यह भी बड़ा सवाल है।

बतौर हैल्थ वर्कर वैक्सीन लगवाने वाले कारोबारियों द्वारा यह बताने के उनका सबंध ब्लड बैंक से है तो भास्कर ने ब्लड बैंक प्रभारी आर एस गुप्ता से बात की। गुप्ता का कहना है हमसे निजी हास्पिटल संचालक डॉ. हरीश गुप्ता ने स्टाफ की सूची मांगी थी तो करीब 15 नाम भेजे थे। स्टाफ में वैसे सभी को वैक्सीन लग चुकी है एक सफाई कर्मचारी के बारे में मुझे कुछ सस्पेंस है कि उसे लगी है या नहीं। यह मैं कल बता पाऊंगा।

ब्लड बैंक के सदस्य होने के कारण लगी वैक्सीन

^ मैं वैक्सीन के बाद अच्छा फील कर रहा हूं। कोई साइड इफैक्ट नहीं है। वैक्सीनेशन में ज्यादा समय नहीं लगा। एक सेकंड में वैक्सीन लग गई। कोई दर्द नहीं हुआ। मैनें वैक्सीन कालाकुआं डिस्पेंसरी में लगवाई। मैं ब्लड बैंक में सदस्य हूं। हम वहां रोजाना बैठते हैं मरीज भी वहां आते हैं। आप भी लगवाएं और मिलने वालों को भी कहें कि वो भी लगवाएं।
-धर्मेंद्र अग्रवाल, नीमूचाना वाले, वैक्सीन लगवा चुके

^वैक्सीन लगवाने के बाद अच्छा महसूस कर रहा हूं। मैने कालाकुआं सेटेलाइट हॉस्पिटल में वैक्सीन लगवाई थी। एक मिनट में ही वैक्सीन लग गई, लेकिन आधा घंटा ऑब्जरवेशन में रखते हैं। मुझे कोई साइड इफैक्ट नहीं है। मेरा नाम ब्लड बैंक से गया था वहां प्रेसीडेंट हूं। हमें ब्लड बैंक जाना भी पड़ता है ना इसलिए।
-विजय डाटा, एमडी, विजय सोलवेक्स

^वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन अस्पतालों के जरिए किए गए थे। उन्हीं से नाम मांगे गए थे। हैल्थ वर्कर की श्रेणी ऐसे लोगों को शामिल किया था जो क्लोज कांटेक्ट में रहे हों या जिनका संबंध सीधा रहता हो। यदि किसी संस्था के पदाधिकारी को वैक्सीन बतौर हेल्थ वर्कर वैक्सीन लगी है तो यह देखना होगा कि उनका क्लोज कांटेक्ट कितना रहा। वैसे इसकी जिम्मेदारी संबंधित हॉस्पिटल ही है जिसने नाम भेजे थे।
-डॉ. ओ पी मीणा, सीएमएचओ

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें