पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भिवाड़ी के ऑक्सीजन प्लांट पहुंच भड़के विधायक:प्रशासनिक अफसरों से बोले- तिजारा का कोटा 250 सिलेंडरों का, आप भेज रहे हो सिर्फ 40, ब्लैक में बेचते शर्म नहीं आती

अलवर5 महीने पहले
विधायक संदीप यादव ऑक्सीजन प्लांट के अधिकारियों से बात करते हुए।

अलवर के तिजारा विधायक संदीप यादव शनिवार रात करीब 12 बजे भिवाड़ी के सुखमणि व अग्रवाल ऑक्सीजन प्लांट पहुंचे। ऑक्सीजन सप्लाई व्यवस्था में लगे अधिकारियों से पूछा पहले यह बताओ कि तिजारा को 250 में से कितने ऑक्सीजन सिलेंडर मिले। जवाब मिला 40 सिलेंडर। इसके बाद विधायक भड़क गए। उन्होंने कहा कि यहां से लग्जरी गाड़ियों में ऑक्सीजन ब्लैक रहे हो और हमारे तिजारा के लोग मर रहे हैं। पुलिस से बोले- दर्ज करो जिम्मेदारों पर एफआईआर।

असल में राज्य सरकार ने सभी ऑक्सीजन प्लांट पर प्रशासनिक अफसरों की नियुक्ति प्रशासक के रूप में कर दी है। इसके बाद भिवाड़ी के दोनों निजी प्लांटों पर भी BIDA के अफसरों को तैनात किया गया है। ताकि प्लांट से ऑक्सीजन सिलेंडर सीधे न बेचकर सरकार की गाइडलाइन के अनुसार ही समान रूप से कोटे के अनुकूल वितरण किया जा सके। अब जब विधायक दोनों प्लांट पहुंचे तो पता चला कि अधिकारियों की उपस्थिति में तिजारा का मौजूदा कोटा 250 के बदले सिर्फ 40 सिलेंडर ही सप्लाई किए गए हैं।

विधायक बोले- शर्म तो नहीं आ रही होगी आप लोगों को

विधायक यादव के मौके पर पहुंचने पर जब यह बात पता चली तो यहां मौजूद प्रशासनिक अफसरों को उन्होंने लताड़ लगाई। बोले-आपको ऐसा करते हुए या आपकी आंखों के सामने ऐसा होते हुए शर्म तो नहीं आ रही होगी। उन्होंने मौके पर ही थानाधिकारी जितेंद्र सोलंकी को निर्देश दिए कि जिम्मेदारों के खिलाफ FIR दर्ज की जाए। मैं अपने तिजारा क्षेत्र के लोगों को ऐसे तो मरते नहीं देख सकता। लगता है यहां बैठे अधिकारियों को हम नजर नहीं आ रहे हैं।

विधायक ने कहा- तड़के चार बजे तक लोगों के फोन आते हैं, आप सोते रहते हैं

विधायक ने प्लांट में बैठे अधिकारियों से कहा कि तड़के चार बजे तक भी उनके पास फोन आते रहते हैं। पता चलता है कि ऑक्सीजन नहीं होने के कारण मरीजों को अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा रहा है। उनकी सांसें टूटती हैं। यह कोई कैसे बर्दाश्त कर सकता है। आप इस बात का जवाब दो कि 250 सिलेंडरों का तिजारा ब्लॉक का कोटा पूरा क्यों नहीं मिल रहा। हम रात भर जागते हैं, किसी को कोई तकलीफ तो नहीं, फोन उठाते हैं और अधिकारी सो जाते हैं। यह बर्दाश्त नहीं हो सकता।

यहां खत्म हो रही ऑक्सीजन

विधायक ने कहा कि ईएसआई हॉस्पिटल हो या ओम हॉस्पिटल ऑक्सीजन खत्म होने पर कोई समाधान नहीं होता है। मरीजों को डिस्चार्ज करना पड़ता है। जिसके कारण लोग मर रहे हैं। पहले भिवाड़ी को ऑक्सीजन दो। जो सरकार ने कोटा तय किया है, वह तो पूरा देना पड़ेगा ही।

भिवाड़ी में हैं बड़े प्लांट

अलवर के भिवाड़ी में सुखमणि व अग्रवाल ऑक्सीजन के बड़े प्लांट हैं। यहां से प्रदेश भर में ऑक्सीजन पहुंच रही है। इसके अलावा दिल्ली भी जाती है।

खबरें और भी हैं...