संस्था प्रधानों का प्रशिक्षण:प्रशिक्षण में बताया-समय के पाबंद कैसे हों, प्रत्येक ग्रुप के 10-10 आवश्यक कार्य सिखाए गए

अलवर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अलवर. डाइट में चल रहे प्रधानाचार्याें के प्रशिक्षण कार्यक्रम में माैजूद प्रतिभागी। - Dainik Bhaskar
अलवर. डाइट में चल रहे प्रधानाचार्याें के प्रशिक्षण कार्यक्रम में माैजूद प्रतिभागी।

डाइट में चल रहे संस्था प्रधानों के प्रशिक्षण में गुरुवार को तृतीय दल द्वारा प्रेरक वाक्य, प्रसंग व देशभक्ति गीताें की प्रस्तुति दी गई। सीमेट के उपनिदेशक सीताराम शर्मा ने कहा कि इन प्रशिक्षणाें से संस्था प्रधानों की प्रतिभा में निखार आएगा। उन्हाेंने खराब मौसम के चलते प्रतिभागियाें काे सतर्क व स्वस्थ रहने की बात कही।

उन्हाेंने कहा कि प्रत्येक विद्यालय के प्रधानाचार्य को स्काउट गाइड गतिविधियां संचालित करनी चाहिए और स्काउट प्रशिक्षण भी लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि अभाव में कैसे जिया जाता है और समय की पाबंद कैसे हाे सकते हैं, यह कला स्काउट सिखाता है। इस दाैरान उन्हाेंने माउंट आबू के कई संस्मरण भी सुनाए। इसके बाद एसआरजी चंद्रकेश व अशोक गोयल ने समय की पाबंदी पर एक वीडियो क्लिप दिखाई।

इसमें विषय से संबंधित विभिन्न स्तराें के बारे में बताया गया। सभी संस्था प्रधानों काे प्रत्येक ग्रुप के 10-10 आवश्यक कार्य सिखाए गए। इसमें शाला दर्पण, कोरोना वैक्सीनेशन पर विशेष जोर दिया गया तथा समय प्रबंधन के बारे में समझाया। प्रधानाचार्य सतीश चंद तिवारी ने विभागीय कार्यक्रम का समन्वय करते हुए खरगोश-कछुए की कहानी सुनाई।

खबरें और भी हैं...