पुलिस का खुलासा:उद्यमी काे पहले सेक्सटाॅर्शन में फंसाने की काेशिश फिर झुंझुनूं से धमकी भरा फाेन, 3 आराेपी गिरफ्तार

अलवर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस की गिरफ्त में आराेपी। - Dainik Bhaskar
पुलिस की गिरफ्त में आराेपी।

हसन खां मेवात नगर निवासी उद्यमी डाॅ. चंद्रप्रकाश यादव काे माेबाइल पर जान से धमकी देने के मामले का खुलासा कर पुलिस ने गुरुवार काे तीन आराेपियाें काे गिरफ्तार किया है। वारदात में उपयाेग में लिए चार माेबाइल भी बरामद किए हैं। पुलिस पूछताछ में सामने आया है कि भरतपुर निवासी दाे भाई जाे सेक्सटाॅर्शन गिराेह के सदस्य हैं, इन्हाेंने पहले अगस्त माह में चंद्रप्रकाश काे वाट्सअप काॅल कर फंसाने का प्रयास किया। उद्यमी के काेई रिप्लाई नहीं करने पर बात नहीं बनीं। बाद में झुंझुनूं निवासी एक व्यक्ति ने शराब के नशे में चंद्रप्रकाश काे लगातार फाेन कर जान से मारने की धमकी दे डाली।

पुलिस की मानें ताे दाेनाें मामलाें का आपस में काेई संबंध नहीं है। पुलिस अधीक्षक तेजस्वनी गाैतम ने बताया कि उद्यमी चंद्रप्रकाश की शिकायत पर पुलिस ने धमकी देने के लिए उपयोग में लिए जा रहे मोबाइल नंबरों की जांच कराई।

काॅल डिटेल के आधार पर आराेपियाें काे चिह्नित कर उनकी तलाश के लिए अलग-अलग टीमें झुंझुनूं व भरतपुर के लिए रवाना की गई। झुंझुनूं से उद्यमी काे जाने से मारने की धमकी देने वाले आराेपी राजवीर उर्फ राज जाट व भरतपुर से आराेपी जुनेद व उसके भाई इरशाद काे हिरासत में लेकर अलवर लाई।

पूछताछ में आराेपी राजवीर ने शराब के नशे में उद्यमी के मोबाइल नंबर पर काॅल कर जान से मारने की धमकी देने की बात कबूली। इससे पहले आराेपी दाेनाें भाइयाें ने इंटरनेट कॉलिंग के माध्यम से एप के जरिए व्हाट्सएप काॅल कर उद्यमी काे सेक्सटाॅर्शन में फंसाने के प्रयास की बात स्वीकार की। उल्लेखनीय है कि डाॅ. चंद्रप्रकाश यादव ने 27 सितंबर काे शिवाजी पार्क थाने में रिपोर्ट दर्ज कर बताया कि एक व्यक्ति पिछले कई दिनाें से उसे विभिन्न नंबरों से फाेन कर जान से मारने की धमकी दे रहा है।

भास्कर एक्सप्लेनर: दाेनाें भाई केवल 8वीं तक पढ़े, साइबर क्राइम के मास्टरमाइंड
चंद्रप्रकाश काे वाट्सअप काॅल करने वाले दाेनाें भाई भरतपुर के खाेह थाने के गदड़बास निवासी जुनैद (25) और इरशाद (21) भी महज आठवीं तक पढ़े हैं। भरतपुर के कामां, पहाड़ी, जुरहेड़ा, केथवाड़ा, खाेह, सीकरी और नगर इलाके के सर्वाधिक युवा साइबर क्राइम से जुड़े हैं।

इनमें करीब 100 गांवाें में यह अपराध फल-फूल रहा है। वहीं अलवर के रामगढ़, गाेविंदगढ़, नाैगांवा और सदर थाने के भी कई गांवाें में इस तरह का अपराध अब बढ़ने लगा है। पुलिस अब दाेनाें आराेपियाें से पूछताछ कर उनके साथियाें और पिछली वारदाताें का खुलासा करने में जुटी है।

समझिए...आराेपियाें तक इस तरह पहुंची पुलिस
एसपी ने उद्यमी काे जाने से मारने की धमकी मिलने के बाद एएसपी मुख्यालय सरिता सिंह, सीओं हरिसिंह व शिवाजी पार्क थानाधिकारी विनोद सामरिया के नेतृत्व में स्पेशल टीम गठित की। टीम ने उद्यमी के मोबाइल नंबरों की सीडीआर डिटेल्स खंगाली।

नंबराें के आधार पर पुलिस झुंझुनूं पहुंची वहां से राजवीर काे गिरफ्तार किया। वह आदतन अपराधी है। वहीं उद्यमी काे व्हाट्सएप पर काॅल व मैसेज कर सेक्सटाॅर्शन में फंसाने के प्रयास करने वाले आरोपियों के मोबाइल नंबर ट्रेस हुए। जिसके बाद पुलिस ने आरोपियों काे भरतपुर से गिरफ्तार किया गया।

वीपीएन से छुपाई थी लोकेशन, एप पर महज 70 में मिल जाता है नया नंबर

आराेपियाें ने बताया कि वह फंसाने के लिए वीपीएन का उपयाेग करते थे। जिससे उनकी लाेकेशन छुप जाती थी। इसके बाद वह एप के जरिए एक वर्चुअल नंबर लेते थे। उसी से फाेन करते थे। उल्लेखनीय है कि भास्कर ने पड़ताल में पहले ही वीपीएन के जरिए लाेकेशन छुपाने का खुलासा कर दिया था। साेशल प्लेटफार्म पर कई तरह के एप उपलब्ध हैं। जिनमें कई फ्री, जबकि कई महज 70 से 80 रुपए में मिल जाते हैं। इनके आधार पर किसी भी जगह या देश के नंबर से काॅल की जा सकती है।

खबरें और भी हैं...