पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Alwar
  • Two Sisters Living In Alwar, Becoming Labor Minister Is Expected To Change The Day Of 1000 Crore ESIC Medical College Of Alwar

श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव का अलवर से बड़ा रिश्ता:दो बहिनें अलवर में रह रही, श्रम मंत्री बनने से अलवर के 1000 करोड़ के इएसआईसी मेडिकल कॉलेज के दिन बदलने की उम्मीद

अलवर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भूपेंद्र यादव अपने पिता व बहिन के साथ। - Dainik Bhaskar
भूपेंद्र यादव अपने पिता व बहिन के साथ।

राजस्थान से राज्यसभा सांसद व श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव का अलवर जिले से गहरा नाता है। यहां उनकी दो बहिनें रहती हैं। एक बहिन स्कूल लेक्चरर के पद से सेवानिवृत हो चुकी हैं तो दूसरी कॉलेज में प्रोफेसर हैं। इस कारण उनका अलवर आना-जाना रहता है। अब श्रम मंत्री बनाए जाने से अलवर के ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज के दिन भी बदल जाएंगे। जो करीब 8 सालों से आधा-अधूरा चला और वह भी रफ्तार नहीं पकड़ पाया। नए श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव अलवर जिले को बखूबी समझते हैं। अलवर से लगते हरियाणा के जमालपुर गांव के रहने वाले मंत्री यादव का यहां बराबर आना-जाना रहा है। इस कारण अलवर में विकास का पहिया भी पहले से तेज गति से आगे बढ़ने की उम्मीद जगी है।

भूपेंद्र यादव के पिता व उनकी तीनों बहिनें।
भूपेंद्र यादव के पिता व उनकी तीनों बहिनें।

बड़ी बहिन ऊषा व छोटी रेखा अलवर रह रही
भूपेंद्र यादव की बड़ी बहिन ऊषा यादव अलवर में रहती हैं। वे कॉलेज लेक्चरर से सेवानिवृत हो चुकी हैं। उनके पति बलजीत यादव अलवर कोर्ट में सीनियर एडवोकेट हैं। दूसरी बहिन रेखा यादव राजकीय कला कॉलेज में दर्शनशास्त्र की प्रोफेसर हैं। उनके पति मिलन यादव भी अलवर राजकीय कला महाविद्यालय में भूगोल के प्रोफेसर हैड ऑफ द डिपार्टमेंट हैं। इस कारण भूपेंद्र यादव का अलवर आना-जाना रहता है। भूपेंद्र यादव व उनकी पत्नी सुप्रीम कोर्ट में वकील भी हैं। उनके दो बेटियां हैं। राज्यसभा सांसद बनने के बाद अलवर के कई विधायक व नेताओं का भी उनसे बराबर सम्पर्क रहा है।

हरियाणा में जमालपुर पैतृक गांव, अजमेर में पैदा हुए
भूपेंद्र यादव के पिता अजमेर रेलवे में नौकरी करते थे। उनका जन्म भी अजमेर में हुआ। जबकि उनका पैतृक गांव हरियाणा के जमालपुर में हैं। लेकिन भूपेंद्र यादव की स्कूल-कॉलेज शिक्षा अजमेर में हुई है। सेंट पॉल स्कूल से पढ़ाई की। इसके बाद पॉलिटकिल साइंस ऑनर्स से ग्रेजुएशन किया। बाद में लॉ किया। वहीं के राजकीय कॉलेज से चुनाव भी लड़े हैं। बाद में भाजपा के शीर्ष नेताओं के विश्वसनीय होते गए। लगातार दूसरी बार राजस्थान से राज्यसभा के सांसद हैं। उनके हार्ड वर्क कई अलग-अलग जिम्मेदारों पर खरे उतरते गए तो मोदी ने बड़े विभाग के मंत्री का जिम्मा सौंपा है।

अब मेडिकल कॉलेज पकड़ेगा रफ्तार
उम्मीद है कि अब अलवर का ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज रफ्तार पकड़ेगा। करीब 8 साल पहले करीब 1000 करोड़ का मेडिकल कॉलेज भवन पिछली कांग्रेस सरकार के समय बनाया गया था। लेकिन बाद में भाजपा सरकार के आने के बाद मेडिकल कॉलेज चालू नहीं हो सका। अब केंद्र में मोदी सरकार की दूसरी पारी है। कोरोना महामारी में मेडिकल कॉलेज की जरूरतों को सरकार ने समझा तो यहां आवश्यक स्टाफ बढ़ाया है। अब इस विभाग के मंत्री भूपेंद्र यादव को बनाया गया है। जिससे लोगों को उम्मीद है कि ये मेडिकल कॉलेज तेजी से आगे बढ़ेगा। जिससे हजारों लोगों को प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रोजगार मिलेंगे। इसके अलावा आमजन को एक्सपर्ट के जरिए इलाज भी मिल पाएगा। अभी इस मेडिकल कॉलेज में आवश्यक स्टाफ व इंफ्रास्ट्रैक्चर खड़ा करने की जरूरती है। ताकि यहां मेडिकल कॉलेज की पढाई भी शुरू हो और इलाज भी।

कुछ नेता भूपेंद्र यादव के नजदीक
अलवर के शहर विधायक संजय शर्मा व किशनगढ़बास के विधायक रामहेत सिंह यादव भूपेंद्र यादव के काफी नजदीक माने जाते हैं। इसी कारण राज्य सांसद के कोटे का काफी पैसा इनके विधानसभा क्षेत्रों में खर्च किया गया है।

खबरें और भी हैं...