• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Alwar
  • When The City Council Stopped The Payment, The Youth Was On Fast Unto Death, Asking For Donations To Give Corruption, Mobile Was Also Stolen

गरीबाें को खाना खिलाया, अब खुद भूखा:नगर परिषद ने भुगतान रोका तो आमरण अनशन पर युवक, भ्रष्टाचार देने के लिए दान मांग रहा, मोबाइल भी चोरी

अलवर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नगर परिषद के बाहर आमरण अनशन पर । - Dainik Bhaskar
नगर परिषद के बाहर आमरण अनशन पर ।

कोरोना महामारी में गरीबों को आश्रय स्थल पर खाना खिलाने वाला अलवर शहर निवासी युवक राहुल जैन चार दिनों से खुद भूखा है। राहुल का आरोप है कि नगर परिषद सभापति ने जानबूझकर उसका बिल रोक लिया है। बिल पास करने के एवज में 50 प्रतिशत राशि बतौर कमिशन मांगी गई है। कमिशन देने से मना कर दिया तो उसका भुगतान रोक लिया गया। अब चार दिन से वह नगर परिषद के सामने ही आमरण अनशन पर है। चार दिन से खुद ने कुछ नहीं खाया है। अब रक्षाबंधन के दिन उसकी बहन भी वहीं पर राखी बांधने आएगी। यही नहीं भ्रष्टाचार की राशि देने के लिए बकायदा दान भी मांग रहा है।

कलेक्टर को 17 बार लिखा पत्र
राहुल ने कलेक्टर काे 17 बार पत्र लिखा है। जयपुर के उच्च अधिकारियाें काे भी अवगत कराया है। लेकिन उसके बिल का समाधान नहीं हाे सका है। राहुल का कहना है कि डेढ़ साल हो गया है। कोरोना की पहली लहर में गरीबों को आश्रय स्थल पर खाना भेजा है। अधिकारियों के निर्देश पर खाना जारी हुआ है। जिसकी पूरी कागजी प्रक्रिया हुई है। जब बिल जारी करने के एवज में कमिशन नहीं दिया तो यह कहने लग गए कि आपने खाना वितरण अपनी मर्जी से किया है। कभी कहते हैं खाना जितना बताया जा रहा है उतना पहुंचाया नहीं गया। यदि कमिशन देने को तैयार हो जाता तो डेढ़ साल पहले ही बिल पास हो जाता।

राहुल का मोबाइल भी चोरी
आमरण स्थल से रात करीब दो बजे राहुल का मोबाइल भी चोरी हो गया। इसके बाद उसके सामने और समस्या आ गया है। इस बारे में राहुल का कहना है कि यह जानबूझकर कराया गया है। ताकि मुझे ज्यादा परेशानी हो। पुराना रिकाॅर्ड ही खत्म हो जाए। लेकिन मैं अपने अधिकारों के लिए चुप नहीं बैठने वाला। जब तक जान तब तक लड़ाई लडूंगा।

खबरें और भी हैं...