• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Alwar
  • Will Clean Toxic Air Within A Radius Of 100 Meters, AQI Will Be Claimed Up To 75; The Cost Has Come Only Seven Lakh Rupees

प्रदेश का पहला स्माॅग टाॅवर:100 मीटर की परिधि में जहरीली हवा काे करेगा साफ, दावा-75 तक हाे जाएगा एक्यूआई; केवल सात लाख रुपए आई है लागत

अलवरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल जयपुर। - Dainik Bhaskar
राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल जयपुर।
  • प्रयाेग सफल रहा ताे प्रदेश में अन्य जगहाें पर भी लगेंगे इसी तरह के टाॅवर

देशभर में सर्वाधिक प्रदूषित शहर का धब्बा भिवाड़ी से हटने वाला है। प्रदूषण नियंत्रण मंडल ने शहर के सबसे प्रदूषित अजंता चाैक पर प्रदेश का पहला स्माॅग टाॅवर लगाया है। यह अपने चाराें ओर की 100 मीटर की परिधि में जहरीली हवा खींचकर साफ हवा छाेड़ेगा। इसे बनाने वाली जायलम एनर्जी प्रा.लि. का दावा है कि इसके चालू हाेने से वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 75 से नीचे आ जाएगा। अगर यह प्रयाेग सफल रहा ताे भिवाड़ी पूरे प्रदेश में इसकी नजीर बनेगा।

अन्य जगह भी विभाग इसी तरह के टाॅवर खड़ा करेगा। अजंता चाैक पर लगे इस टाॅवर की ऊंचाई 17 फीट एवं चाैड़ाई चार फीट है। इसके लिए बीएमए ने इलेक्ट्रिसिटी और रीकाे ने जगह उपलब्ध कराई है। इस टाॅवर की कीमत करीब सात लाख रुपए आई है।

यह स्माॅग टाॅवर दूषित हवा और धूल काे साैखेगा। इसे 24 घंटे में से 20 घंटे तक काम कर सकता है। इसे चार घंटे बंद रखना जरुरी है। इसका इनपुट 13 हजार क्यूपिक फिट/ मिनट तथा आउटपुट 15 हजार क्यूपिक फिट / मिनट है। हवा साफ करने के लिए इसमें एक पंखा, फिल्टर, स्क्रबर, नेस्ट एलीमिलिनेटर, डस्ट कलक्टर एवं 300 लीटर का पानी भी रखा जाएगा। इस पानी काे 15 दिन में बदलना जरुरी है। अभी विभाग की ओर से इसे 150 पर स्थिर किया हुआ है। इससे अधिक हाेते ही यह स्माॅग टाॅवर अपना काम शुरु कर देगा। धीरे-धीरे इसे 75 तक लाने के प्रयास किए जाएंगे।

सितंबर में मिली थी स्वीकृति, जयपुर से पहले भिवाड़ी में लगा
कंपनी द्वारा राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल जयपुर काे इसका डेमाे दिखाने के बाद सितंबर में इसे भिवाड़ी और जयपुर में लगाने की स्वीकृति मिली। भिवाड़ी में अधिक प्रदूषण हाेने के चलते कंपनी ने पहला टाॅवर यहीं पर लगाना तय किया था। एक्यूआई स्टेशन के समीप हाेने के चलते अजंता चाैक पर इसे पिछले दिनाें लगाया गया। प्रदूषण विभाग भी अभी करीब 10 दिन तक इसके परिणाम देखेगा। अगर यह सही मिला ताे भिवाड़ी में खुश्खेड़ा, चाैपानकी, रीकाे चाैक सहित 12 जगहाें पर टाॅवर लगेंगे।
भिवाड़ी में ट्रायल बेस पर प्रदेश का पहला स्माॅग टाॅवर लगा है। इसका सारा खर्चा कंपनी ने वहन किया है। हम पहले इसके परिणाम की समीक्षा करेंगे। अगर यह संतुष्टिपूर्ण मिला ताे 12 जगहाें पर यह टाॅवर लगेंगे।-विवेक कुमार गाेयल, क्षेत्रीय अधिकारी, आरपीसीबी, भिवाड़ी

खबरें और भी हैं...