पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

आयुर्वेद डाॅक्टर का जुनून:मरीजों का इलाज करने के साथ लोगों को सिखाई औषधीय पाैधों की पहचान, 5 साल में लगवा दिए 6 हजार पाैधे

अलवर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 2016 में शुरू किया था अभियान, केंद्रीय विद्यालय के झाड़ियों से अटे मैदान को बना दिया उद्यान, कोरोना काल में लगाए 1100 पौधे

आयुर्वेद डॉक्टर ने सरकारी ड्यूटी पर मरीजों के इलाज की जिम्मेदारी के साथ जिले में 5 साल में 6 हजार औषधीय पौधे लगा दिए हैं। कोरोना काल में जब लोग घरों से नहीं निकल रहे थे, तब कोरोना ड्यूटी के साथ लोगों को संक्रमण से बचाव के लिए काढ़ा पिलाने के साथ इस डॉक्टर ने केन्द्रीय विद्यालयों, नर्सिंग कॉलेज और सार्वजनिक पार्कों में 1100 पौधे लगवाए। केन्द्रीय विद्यालय इटाराना के कंटीली झाड़ियों से भरे मैदान को दो साल की मेहनत से औषधीय पार्क में तब्दील कर दिया है।

औषधीय पौधे लगाने का ये जुनून जिला आयुर्वेद चिकित्सालय के डॉ. पवन शेखावत का है। पौधे सिर्फ उन्हीं जगहाें पर लगाए जहां चारदीवारी के साथ पौधों के संरक्षण की जिम्मेदारी लेने वाले लोग मिले। इसी कारण वर्तमान में 90 फीसदी पौधे पेड़ों का रूप लेकर हरे-भरे खड़े हैं। पौधों की खरीद, उनके परिवहन और वितरण पर होने का पूरा खर्चा खुद ही उठाया है।

लोगों को औषधीय पेड़ों की पहचान, आयुर्वेद औषधियों के उपयोग की जानकारी कराने और पर्यावरण संरक्षण के उद्देश्य से डॉ. शेखावत ने औषधीय पौधे लगाने का अभियान वर्ष 2016 में रामगढ़-गोविंदगढ़ में शुरू किया, जहां शुरूआत में ही लोगों के सहयोग से 1100 औषधीय पौधे लगाए। जिला आयुर्वेद चिकित्सालय के झाड़ियों वाले परिसर में भी अब औषधीय पेड़ लहलहा रहे हें।

केन्द्रीय विद्यालय इटाराना में प्रिंसिपल मनोज कुमार पांडेय के साथ मिलकर कंटीली झाडियों से भरे मैदान की सफाई कराने के बाद वहां औषधीय उद्यान विकसित कर दिया है। दो साल की मेहनत के बाद अब स्कूल परिसर में 500 से अधिक औषधीय पौधे लहलहा रहे हैं। इसी प्रकार मोतीडूंगरी केन्द्रीय विद्यालय के उद्यान में पौधे लगवाकर और विकसित कराने में भी अहम भूमिका निभाई है। जहां भी पौधे नष्ट हुए, वहां फिर से लगाए गए हैं।

कोरोनाकाल में संक्रमण के डर से लोग घरों में रहे, तब लगवाए 1100 पौधे

कोरोनाकाल में संक्रमण के डर से जब लोग घरों में थे, जब डॉ. शेखावत ने जेल परिसर, इंद्रगढ़ स्कूल, इटाराना व मोतीडूंगरी केन्द्रीय विद्यालय, हरीश हॉस्पिटल नर्सिंग कॉलेज, अंबेडकर पार्क, अपनाघर शालीमार, एमआईए स्थित चौधरी चरणसिंह नर्सिंग कॉलेज, जिला आयुर्वेद हॉस्पिटल, योग चिकित्सालय वैशाली नगर में 1100 पौधे लगाए।

28 से अधिक किस्म के औषधीय पौधे लगाए : मुख्य रूप से अर्जुन, आंवला, हारसिंगार, अंजीर, गिलोय, तुलसी, एलोविरा, रुद्राक्ष, सहजना, अमलतास, शीशम, नीम, गुड़हल, सदाबहार, पत्थरचट्‌टा, बिल्व, करंज, जामुन, कांचनार, इंसुलिन, बहेड़ा, कदंब, सुदर्शन, निर्गुंडी, सीताफल, नागद्रोण, हड़जोड़ व शतावरी आदि के पौधे लगाए गए हैं।

ऐसे करते हैं पौधों की व्यवस्था : औषधीय पौधों के लिए डाॅ. शेखावत जनवरी-फरवरी में ही सरकारी नर्सरियों को अपनी डिमांड भेज देते हैं। नर्सरियों में भी उनकी डिमांड के मुताबिक पौधे तैयार कर दिए जाते हैं। बारिश का मौसम आते ही वे अपने खर्चे पर पौधों को नर्सरियों से उठा लाते हैं।

आयुर्वेद चिकित्सक डॉ. शेखावत की मेहनत और उनके काम के जज्बे से इटाराना केंद्रीय विद्यालय में औषधीय उद्यान विकसित हो सका है। कोरोनाकाल से पहले स्कूल के बच्चों को औषधीय पेड़ों की जानकारी दी तो उनकी भी रुचि बढ़ी। यह अच्छी बात है।
-मनोज कुमार पांडेय, प्रिंसिपल केंद्रीय विद्यालय, इटाराना

5 साल में इन जगहों पर लगवाए औषधीय पौधे

  • वर्ष 2016 में 1100 औषधीय पौधे रामगढ़ व गोविंदगढ़ क्षेत्र के स्कूलों व ग्राम पंचायत के सार्वजनिक स्थानों पर लगवाए।
  • वर्ष 2017 में 2100 औषधीय पौधे गोविंदगढ़ की सभी ग्राम पंचायतों के सहयोग से सार्वजनिक स्थलों स्कूल, मंदिर, श्मशान आदि में लगवाए।
  • वर्ष 2018 में 500 औषधीय पौधे शहर के वैशाली नगर योग एवं प्राकृतिक चिकित्सालय, बालाकिला क्षेत्र व ग्रामीण क्षेत्रों में लगवाए।
  • 2019 में 1251 औषधीय पौधे केन्द्रीय विद्यालय इटाराना, इंद्रगढ़ के राउमा स्कूल और केन्द्रीय विद्यालय मोतीडूंगरी सहित पार्कों में लगवाए।
  • 2020 में 1100 पौधे केन्द्रीय विद्यालय इटाराना व मोतीडूंगरी, इंद्रगढ़ स्कूल, जेल परिसर, प्राइवेट नर्सिंग कॉलेज व कॉलोनियों के पार्कों में लगवाए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप अपने अंदर भरपूर विश्वास व ऊर्जा महसूस करेंगे। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। तथा अपने सभी कार्यों को समय पर पूरा करने की भी कोशिश करेंगे। किसी नजदीकी रिश्तेदार के घर जाने की भी योजना बनेगी। तथ...

और पढ़ें