पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना का कहर:48 घंटे के भीतर बेटे से छिन गया मां-पिता का साया

अलवर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना से खुद तो ठीक हो गए, माता-पिता की जान चली गई

किशनगढ़बास में कोरोना का कहर ऐसा टूटा कि 48 घंटे के भीतर प्रोफेसर बेटे के सिर से माता और पिता दोनों का साया छिन गया। पीड़ित डॉ नितिन मित्तल खुद भी कोरोना संक्रमित हुए। बेटा भी बीमार पड़ा। वे दोनों तो ठीक हो गए, लेकिन बीमार पड़े माता और पिता की तबीयत दिल्ली, रेवाड़ी और अलवर के अस्पतालों में इलाज के बावजूद नहीं सुधरी। उनके पिता की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई थी, लेकिन फेफड़ों में संक्रमण से 27 मई को अलवर में मृत्यु हो गई।

परिवार संभल भी नहीं पाया था कि दो दिन बाद 29 मई को मां भी चल बसीं। गुरुग्राम के एसजीटी कॉलेज में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ नितिन मित्तल ने बताया कि 17 अप्रैल वह कोरोना संक्रमित हो गए थे। करीब 10 होम आइसोलेशन में इलाज से वह तो ठीक हो गए, लेकिन 25 अप्रेल को पिता सुरेश मित्तल और 4 मई को मां भी बीमार हो गई।

उन्होंने पिता को 3 मई को खैरथल के गुप्ता नर्सिंग होम में भर्ती कराया। उनकी कोविड रिपोर्ट निगेटिव आई, लेकिन फेफड़ों में इंफेक्शन मिला। तबीयत बिगड़ने पर उन्हें 11 मई को रेवाड़ी के वेदांता हॉस्पिटल में भर्ती किया। तबीयत सुधरने पर 23 मई को वे पिता को घर ले आए। मगर दो दिन बाद ही तबीयत फिर बिगड़ गई। उन्हें गुप्ता नर्सिंग होम भर्ती किया। सुधार नहीं होने पर अलवर के मित्तल हॉस्पिटल ले गए। जहां सुरेश मित्तल ने 27 मई को दम तोड़ दिया।

इधर पिता गुजरे, उधर मां अस्पताल में थी
डॉ नितिन ने बताया कि उनकी मां 5 मई को कोरोना पॉजिटिव आई तो पूरा परिवार चिंता में पड़ गया। उन्होंने मां को अलवर के मित्तल हॉस्पिटल में भर्ती कराया, लेकिन तबीयत नहीं सुधरी। इस पर 11 मई को वे उन्हें रेवाड़ी के वेदांता हॉस्पिटल ले गए। यहां 28 मई को अचानक तबीयत बिगड़ी और 29 मई को फेफड़ों में इन्फेक्शन से मां की मौत हो गई।
फोटो स्टूडियो चलाते थे पिता
नितिन के पिता सुरेश मित्तल किशनगढ़बास में किरण फोटो स्टूडियो के नाम से दुकान करते थे। उनकी मां गृहिणी थी। नितिन इकलौते बेटे हैं। जबकि बहन की शादी हो चुकी है। नितिन की पत्नी अस्पताल में फार्मासिस्ट के पद पर कार्यरत हैं। 48 घंटे के भीतर परिवार से दो अर्थियां उठने के बाद हर कोई सदमे में है।

खबरें और भी हैं...