पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ये हैं महिला शक्ति:टाेल पर जिम्मा अब महिलाओं के हाथ, पर्ची काटने से लेकर बेरिकेड लगाने तक का काम कर रही हैं

अलवर7 दिन पहलेलेखक: धर्मेंद्र दीक्षित
  • कॉपी लिंक
टोल पर वाहन चालक से समझाइश करती महिला स्टाफ। - Dainik Bhaskar
टोल पर वाहन चालक से समझाइश करती महिला स्टाफ।
  • भिवाड़ी से सिकंदरा तक पांच टाेल पर काम कर रही 60 महिलाएं

अभी तक आपने टाेल नाकाें पर पुरुषाें काे ही काम करते देखा हाेगा। नाेकझाेंक वाला काम हाेने के चलते महिलाएं अभी तक इन कामाें से बचती थी। लेकिन अब अलवर में टाेल नाकाें पर महिलाएं काम कर रही हैं। भिवाड़ी से सिकंदरा तक पड़ने वाले 5 टाेल नाकाें का जिम्मा एक अप्रैल से आरके जैन इंफ्रा काे मिला है।

नया कांट्रेक्ट लेने के साथ ही यहां महिला स्टाफ काे नियुक्त कर दिया। कंपनी का मानना है कि महिला स्टाफ रखने के साथ नाकाें पर हाेने वाली बहस में भी कमी आई है। अब वाहन चालक पर्ची काे लेकर अधिक उलझते नहीं हैं।

प्रबंधन का भरोसा : काम के प्रति अधिक समर्पित हाेती हैं महिलाएं

टाेल संचालन करने वाली कंपनी आरके जैन इंफ्रा के सीनियर मैनेजर टाेल ऑपरेशन गाेपाल ठठेरा ने बताया कि जिले के पांच टाेल पर महिला स्टाफ हैं। महिलाएं हर क्षेत्र में आगे हैं। इस जाॅब में भी वे काफी खुश नजर आती हैं। महिलाएं वैसे भी अपने काम के प्रति काफी समर्पित हाेती हैं। महिला स्टाफ से वाहन चालक बहस नहीं करते, जबकि पुरुषाें के साथ ताे मारपीट करने में देर नहीं करते।

महिलाओं का व्यवहार भी अच्छा होता है। कंपनी ने अन्य भी कई जगह महिला स्टाफ को टोल पर तैनात किया है। सभी जगह अच्छा माहौल है। खिजूरीवास टाेल पर शिफ्ट इंचार्ज पंजाब निवासी हरप्रीत काैर का कहना है कि वह कंपनी के साथ पहले से काम कर रही थी। पहले कंपनी के पास पलवल का कांट्रेक्ट था वहां भी वह काम कर रही थी। वहीं अमृतकाैर का कहना है कि हम शांति वाहन चालकाें काे समझाइश कर अपना काम करते हैं। वाहन चालक भी आसानी से समझ जाते हैं।

शिफ्टों में काम करती हैं महिलाएं :

शहर के अलवर-भिवाड़ी मेगा हाईवे के पापड़ी, तिजारा और खिजूरीबास और अलवर सिकंदरा स्थित दाेनाें टाेल पर इन 60 महिलाओं की ड्यूटी है। पांचाें टाेल पर रसीद काटने, सुपरविजन और इमरजेंसी वाहनाें काे रास्ता दिखाने के लिए महिला स्टाफ तैनात है। पापड़ी, तिजारा और सिकंदरा वाले चार टाेल पर सुबह 8 से शाम 4 बजे तक महिलाएं कमान संभालती हैं।

जबकि खिजूरीबास टाेल पर सुबह 8 से शाम 4 बजे तक और शाम 4 बजे से रात 9 बजे तक दाे शिफ्ट में महिलाएं काम करती हैं। कंपनी ने सभी महिला कर्मचारियाें के आने-जाने और रहने की व्यवस्था की है। चार टाेल पर 10 से 12 का स्टाफ है जबकि खिजूरीबास टाेल पर 14 महिलाओं का स्टाफ है। अभी इन टाेल पर फास्ट टैग व्यवस्था शुरू नहीं हुई है।

टोल पर व्यवस्था संभालती महिला।
टोल पर व्यवस्था संभालती महिला।
खबरें और भी हैं...