पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अच्छी खबर:ब्लड बैंक में लगेगी कंपोनेंट सेपरेशन मशीन, 1 यूनिट खून 3 मरीजाें के काम आएगा

विश्वजीत गोले|डूंगरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • थैलेसीमिया और स्वाइन फ्लू जैसी बीमारी के मरीजों को गुजरात, उदयपुर जाने से मिलेगी निजात, मार्च में आएगी

मेडिकल कॉलेज के श्री हरिदेव जोशी सामान्य अस्पताल की ब्लड बैंक में जल्द ही कंपोनेंट सेपरेशन यूनिट शुरू होने वाली है। मार्च तक राजमेस जयपुर की ओर से करीब 70 लाख रुपए कीमत की कंपोनेंट सेपरेशन यूनिट ब्लड बैंक को उलब्ध करा दी जाएगी।

फिर इसके बाद ड्रग कंट्रोलर ऑफ इंडिया की टीम ब्लड बैंक का निरीक्षण करेगी। सबकुछ ठीक रहा तो 10 से 15 दिन में कंपोनेंट सेपरेशन का लाइसेंस मिल जाएगी। कंपोनेंट सेपरेशन यूनिट में ब्लड में से उसके प्लाज्मा, आरबीसी, प्लेटलेट्स को पृथक कर जरूरतमंद मरीजों को दिया जा सकेगा। यानी कि एक यूनिट ब्लड तीन लोगों दे सकेंगे। अभी यह यूनिट न होने से एक यूनिट ब्लड एक ही मरीज को दे रहे हैं। इसका बड़ा फायदा थेलेसीमिया, स्वाईन फ्लू आदि बीमारी के मरीजों को होगा। क्योंकि इन मरीजों को होल ब्लड की जरूरत न होकर कंपोनेंट चाहिए होते हैं।

सेंट्रल लैब एचओडी डॉ. वंदना सिंघल ने बताया कि अभी जिला अस्पताल में ब्लड बैंक है, जहां से मरीजों को जरूरत पड़ने पर होल ब्लड दिया जाता है। इसमें आरबीसी, प्लेटलेट्स, प्लाजमा को पृथक करने की व्यवस्था नहीं हैं। होल ब्लड मुख्य रूप से उन मरीजों के लिए आवश्यक होता है जिनके शरीर से दुर्घटना या फिर अन्य कारणों से ब्लड शरीर से निकल जाता है। लेकिन अनेक बीमारियां ऐसी है जिसमें ब्लड के तीन मुख्य अवयव आरबीसी, प्लेटलेट्स तथा प्लाजमा में कमी हो जाती है। जैसे थेलेसीमिया मरीज में आरबीसी, स्वाइन फ्लू, डेंगू, मलेरिया जैसी बीमारियों में ब्लड में प्लेटलेट्स की कमी होना तथा क्रियोनिक बीमारियों में ब्लड में प्लाजमा की कमी हो जाती है। ऐसे इन मरीजों को होल ब्लड की आवश्यकता नहीं होती है, सिर्फ ब्लड में कम हुए उस कंपोनेंट को ही देकर पूर्ति कर दी जाती है।

आपात स्थिति में हम मरीज को होल ब्लड चढ़ा तो सकते हैं लेकिन इससे मरीज के शरीर में ब्लड की मात्रा बढ़ जाती है और उसे हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। जबकि मरीज अगर बच्चा है तो उसे होल ब्लड दिया ही नहीं जाता है। उसे ब्लड कंपोनेंट ही दिया जाता है। कंपोनेंट सेपरेशन यूनिट इंस्टालेशन को लेकर जिला अस्पताल में से सभी लैबों को नई बिल्डिंग में स्थानांतरित कर दिया है। जिला चिकित्सालय में सिर्फ ब्लड बैंक ही रह गई है। ब्लड बैंक में जगह पर्याप्त होने से अब यहां ब्लड सेपरेशन यूनिट इंस्टालेशन के लिए पर्याप्त जगह हो गई है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज जीवन में कोई अप्रत्याशित बदलाव आएगा। उसे स्वीकारना आपके लिए भाग्योदय दायक रहेगा। परिवार से संबंधित किसी महत्वपूर्ण मुद्दे पर विचार विमर्श में आपकी सलाह को विशेष सहमति दी जाएगी। नेगेटिव-...

    और पढ़ें