डूंगरपुर में मुर्दे को लगाई कोरोना वैक्सीन:8 महीने पहले महिला की हो गई थी मौत, 6 दिसंबर को सेकेंड डोज लगने का आया मैसेज

डूंगरपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतका के फोन नंबर पर आए मैसेज लिंक में उसके कोरोना की दोनों डोज लगने का भी सर्टिफिकेट भी आया है। - Dainik Bhaskar
मृतका के फोन नंबर पर आए मैसेज लिंक में उसके कोरोना की दोनों डोज लगने का भी सर्टिफिकेट भी आया है।

डूंगरपुर में एक मुर्दे को कोरोना टीका लगाने का मामला सामने आया है। 72 साल की बुजुर्ग महिला की 8 महीने पहले मौत हो गई थी, लेकिन मौत के इतने महीने बाद कोरोना का टीका लगने का मैसेज आया है। ऐसे में कोरोना वैक्सीनेशन अभियान पर कई सवाल खड़े हो रहे है। मामले में सीएमएचओ ने जांच करवाने की बात कही है।

8 महीने महिला की मौत हो गई। 6 दिसंबर को उसके कोविशील्ड वैक्सीन की दूसरी डोज लगने का मैसेज आया।
8 महीने महिला की मौत हो गई। 6 दिसंबर को उसके कोविशील्ड वैक्सीन की दूसरी डोज लगने का मैसेज आया।

दरअसल सीमलवाड़ा ब्लॉक के धंबोला गांव में तारा देवी पंचाल (72) पत्नी बसंतलाल पंचाल को 3 मार्च 2021 को कोरोना की पहली डोज लगी थी। इसके बाद महिला कोरोना पॉजिटिव हो गई और 15 मार्च को उसकी मौत हो गई। अब महिला की मौत के 8 महीने बाद उसके मोबाइल पर कोरोना वैक्सीन लगने का मैसेज आया। इस मैसेज में महिला के 6 दिसंबर को कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लगने की जानकारी दी गई है। मैसेज में महिला के कोविशील्ड वैक्सीन लगने की सूचना है।

मृतका तारा देवी पांचाल का डेथ सर्टिफिकेट। कोरोना से उनका निधन हो गया था।
मृतका तारा देवी पांचाल का डेथ सर्टिफिकेट। कोरोना से उनका निधन हो गया था।

महिला के फोन पर आए मैसेज लिंक में उसके कोरोना की दोनों डोज लगने का सर्टिफिकेट भी आ गया है। सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि जब महिला की 15 मार्च को मौत हो गई तो 8 महीने बाद उसके नाम से वैक्सीन किसे लगाई गई। इस मामले को लेकर सीएमएचओ डॉ. राजेश शर्मा से बात की तो उन्होंने बताया कि यह गंभीर मामला है और इसकी जांच करवाई जाएगी। उन्होंने कहा कि हो सकता है महिला के नाम से किसी दूसरे ने वैक्सीन लगवा ली हो या फिर गलत नंबर रजिस्टर हो गया हो। इसकी जांच के बाद ही पता लग सकेगा।

खबरें और भी हैं...