पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

टीकाकरण अभियान:वैक्सीन नहीं लगा पाए इसलिए जिले से 17 हजार डाेज जोधपुर-नागाैर भेजे

डूंगरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • राज्य सरकार ने स्टॉक शून्य हो चुके जिलों में भिजवाया
  • दाे दिन बाद आज से फिर 18+ को लगेंगे कोरोना के टीके

स्वास्थ्य विभाग भले ही लाेगाें काे वैक्सीनेशन के लिए जागरूक कर रहा हाे, लेकिन खुद के ढुलमुल रवैये के कारण जिले में पिछले दाे दिन से वैक्सीन का स्टाॅक शून्य है। विभाग की इसी लापरवाही को देखते हुए डूंगरपुर से 17 हजार डोज वापस मंगाते हुए जोधपुर व नागाैर भिजवा दिए। 13 जून को यह डोज जोधपुर जाने के बाद जिले का स्टॉक शून्य हो गया, परिणाम यह हुआ कि जिले में गुरुवार, शुक्रवार को वैक्सीनेशन नहीं हुआ। यह सब इसलिए हुआ कि हमारे जिले में वैक्सीनेशन की प्रगति पूरे राज्य में सबसे कमजोर है।

ऐसे में यहां के लिए आवंटित वैक्सीन अन्य जिलों में भेज दी गई। वैक्सीन और ज्यादा मात्रा में जाने वाली थी। पर, प्रशासन ने इसकी खबर मिलते ही पूरे जिले में माहाैल बनाया और एक दिन में ही 30 हजार से ज्यादा डाेज लगवा दी। यह अभियान पूरी तरह से चिकित्सा विभाग का था और गांव-ढाणी तक इनकी सीधी पहुंच थी। लेकिन न लाेगाें काे जागरूक कर पा रहे हैं और न ही प्रेरित कर रहे हैं। इनकी इस लापरवाही के चलते जिले काे मिलने वाला आवंटन भी कम हाे गया। वहीं यहां के हिस्से की वैक्सीन अन्य जिलों में पहुंच गई।

सूत्रों के अनुसार 1 जून के बाद जिले में वैक्सीनेशन की प्रगति रिपोर्ट में आंकड़े लगातार नीचे जा रहे थे। जबकि ऐसा नहीं था कि वैक्सीन डोज का स्टॉक न हो। जिला वैक्सीन स्टोर और सभी वैक्सीनेशन सेंटरों पर भरपूर डोज होने के बावजूद विभाग लोगों को सेंटर तक लाने में सफल नहीं हो सका। एक जून को जिले में करीब 30 हजार वैक्सीन का स्टॉक था। 5 जून को यह स्टॉक 50 हजार और 10 जून को करीब 60 हजार पहुंच गया। स्टॉक में वैक्सीन भरपूर मौजूद थी, लेकिन सेंटरों पर डोज लगवाने के लिए लोग नहीं आ रहे थे।

जबकि विभाग को लोगों को वैक्सीनेशन के प्रति जागरुक करने के लिए गांव-गांव जाना था। जब भरपूर डोज मौजूद थी तो हेल्थ वर्करों को सक्रिय कर लोगों को सेंटरों तक लाना था। जो नहीं किया गया, लिहाजा वैक्सीनेशन की प्रतिदिन की रिपोर्ट में लगने वाली डोज की संख्या कम और स्टॉक काफी ज्यादा नजर आ रहा था। ऐसे में राज्य सरकार ने यहां से वैक्सीन का स्टॉक उन जिलों में भिजवाने के आदेश जारी कर दिए, जहां वैक्सीन शून्य थी।

वापसी के आदेश आए तो...
कलेक्टर ने एक ही दिन में करीब 35 हजार लोगों को लगवा दिए वैक्सीन

राज्य सरकार ने 13 जून को आदेश जारी कर नागाैर को 15 हजार और जोधपुर को 20 हजार वैक्सीन डोज भेजने के आदेश दिए थे। साथ ही कहा था कि अगर अपना वैक्सीन स्टॉक रखना चाहते हो तो आदेश जारी होने के तीन दिन तक आप चाहें तो इस वैक्सीन स्टॉक को उपयोग कर सकते हैं। इसके बाद शेष स्टॉक शून्य हो चुके जिलों में भेजना होगा।

कलेक्टर ने जब यह आदेश देखे तो जिला स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को अब तक कमजोर रही वैक्सीनेशन परफॉरमेंस पर फटकार लगाते हुए तत्काल स्थिति को संभालते हुए मेगा वैक्सीनेशन जिले भर में रखवाए। एक दिन में 35 हजार लोगों को वैक्सीन लगाई गई। इस वैक्सीनेशन कैंप के बाद शेष बची वैक्सीन के 12 हजार डोज जोधपुर और 5 हजार डोज नागाैर भेजने पड़े।

खबरें और भी हैं...