दिवाली पर जन्मी लक्ष्मी:दिवाली पर 24 घरों में बेटी,17 घरों में जन्मे बेटे

डूंगरपुर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बेटियों को लक्ष्मी का रूप माना जाता है। दिवाली के दिन तो बेटियों के जन्म को काफी शुभ माना जाता है। गुरुवार को दिवाली और शुक्रवार को गोवर्धन पूजा के दिन मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 41 बच्चों ने जन्म लिया। 24 लक्ष्मी रूपी कन्याओं और 17 गणेश रूपी लड़कों ने जन्म लिया। लक्ष्मी पूजन के दिन 22 और गोवर्धन पूजा के दिन 19 डिलीवरियों हुई।

सबसे अच्छी बात तो यह है कि 6 कन्याओं का जन्म रविवार को लक्ष्मी पूजन की गोधुली वेला में हुआ है। दीवाली के दिन जहां लोग धन-वैभव ऐश्वर्य की देवी माता लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए उनकी पूजन की तैयारियों में जुटे थे। वहीं कुछ घर ऐसे भी थे, जिनके घर लक्ष्मी ने साक्षात बेटियों के रूप में जन्म लिया। जिससे उनकी दिवाली की खुशियां दोगुनी हो गई।

मेडिकल कॉलेज अस्पताल के एमसीएच में दीवाली के दिन जन्मी लड़कियों के परिवार वालों ने अस्पताल में मिठाइयां बांटकर अपनी खुशियां बांटी। अस्पताल अधीक्षक डॉ. महेन्द्र डामोर ने बताया कि दीवाली व गोवर्धन पूजा के दिन अस्पताल में जितने बच्चों ने जन्म लिया, सभी स्वस्थ है।

दिवाली पर भगवान ने लक्ष्मी भेजी है: सीमा रोत
सीमलवाड़ा क्षेत्र की सीमा रोत का कहना है कि बेटियां तो भगवान की देन है और दिवाली के मौके पर बेटी के रूप में लक्ष्मी आई हैं। उनके घर बेटी ने जन्म लिया है। वह तथा उसके परिवार के लोग काफी खुश है। उन्हें बेटी की चाह थी जोकि भगवान ने आज पूरी हो गई।

2. मुझे बेटी के रूप में लक्ष्मी मिली है: हुरजादेवी
पातेला निवासी हुरजादेवी ने बताया कि वह दूसरी बार मां बनी है। दीवाली के दिन उसे बेटी के रूप में लक्ष्मी मिल गई। मां लक्ष्मी ने उसके घर आंगन को खुशियों से भर दिया। उनके पहले एक तीन साल का बेटा है। बेटी के आने से परिवार अब पूरा हो गया है।

खबरें और भी हैं...