पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बधाई डूंगरपुर:दिल्ली सरकार ने लागू किया डूंगरपुर का जल संचय और जल संरक्षण मॉडल

डूंगरपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • वाटर हार्वेस्टिंग के पाइपों को हैंडपंप से सीधे जोड़कर वर्षा जल जल को जमीन में पहुंचाकर भू-जल स्तर बढ़ाया था

डूंगरपुरवासियों के लिए यह बहुत बड़ी खुशखबरी है कि देश की राजधानी दिल्ली ने यहां की नगर परिषद के जल संचय व जल संरक्षण के मॉडल को अपनाते हुए लागू कर दिया है। अब इस प्लान से दिल्ली के लोगों की ना सिर्फ प्यास बुझेगी, बल्कि स्वच्छ पानी भी 24 घंटे मिल सकेगा। दिल्ली के गिरते जलस्तर में बढ़ोत्तरी होगी। डूंगरपुर में वाटर हार्वेस्टिंग की पाइपों को हैंडपंपों व घरों की बोरिंग से सीधा जोड़ा गया है।

वहीं इस सिस्टम को लगवाने के लिए नगर परिषद ने अपनी ओर से सब्सिडी दी। दिल्ली सरकार ने डूंगरपुर का पूरा प्लान अपनाने के साथ ही लोगों को यह सिस्टम लगवाने पर वित्तीय मदद भी की जा रही है। बता दें, गत 7 नवंबर 2020 को दिल्ली सरकार के जलदाय व स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ने अपनी टीम के साथ डूंगरपुर आकर यहां के जल संचय व संरक्षण प्लान को अपने इंजीनियरों के साथ अध्ययन किया था। उन्हें डूंगरपुर नगर परिषद का ये मॉडल काफी अच्छा लगा और अब दिल्ली सरकार इस मॉडल को लागू करते हुए दिल्ली में जल संचय व जल संरक्षण का काम वृहद स्तर पर शुरू कर दिया है।

डीजेबी चेयरमैन सत्येन्द्र जैन ने कहा था कि हम वाटर हार्वेस्टिंग पर 1 लाख तक खर्च कर रहे फिर भी सफल नहीं हुए, डूंगरपुर ने 16 हजार में यह काम सफलता पा ली। डीजेबी चेयरमैन सत्येन्द्र जैन ने डूंगरपुर प्रवास के दौरान कहा था कि यहां के घरों के वाटर हार्वेस्टिंग से काफी कुछ सीखा है।

हकीकत में वाटर हार्वेस्टिंग क्या होती है, वो उनको डूंगरपुर में देखने को मिला। डूंगरपुर के पूर्व सभापति केके गुप्ता ने वाटर हार्वेस्टिंग के लिए सहज और सरल तकनीक अपनाई है। दिल्ली में हमें वाटर हार्वेस्टिंग के लिए 50 हजार से 1 लाख रुपए लग रहे हंै। डूंगरपुर ने केवल 16 हजार में वाटर हार्वेस्टिंग कराकर ये साबित कर दिया कि जरूरी नहीं की किसी बड़े शहर से सीखा जाए, छोटे शहर भी हमें बहुत कुछ सिखा जाते हैं।

वाटर हार्वेस्टिंग लगवाने दिल्ली सरकार ने शुरू की लोगों को वित्तीय सहायता देना

दिल्ली सरकार ने डूंगरपुर की तर्ज पर दिल्ली में बारिश के पानी के संरक्षण को प्रोत्साहित करने के लिए लोगों को वित्तीय सहायता देने का निर्णय लिया हैं। जल मंत्री एवं दिल्ली जल बोर्ड के अध्यक्ष सत्येंद्र जैन ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक कर रूफटॉप रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाने की प्रक्रिया को सरल बनाने पर चर्चा करते हुए कई अहम फैसले लिए।

केजरीवाल सरकार अब रूफटॉप रेनवाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाने वालों को 50000 रुपए तक की वित्तीय सहायता देगी। साथ ही पानी के बिलों पर 10 फीसदी की छूट भी देगी। बता दें, दिल्ली सरकार ने 100 वर्ग मीटर या उससे अधिक क्षेत्रफल में बने घरों पर रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम बनाना अनिवार्य किया है। इसके लिए दिल्ली सरकार ने नियमों में काफी ढील दी हुई हैं। यह सब प्रक्रिया डूंगरपुर की तर्ज पर है।

समूचा प्रोजेक्ट डूंगरपुर के जल संचय मॉडल के अनुसार बनाया

डूंगरपुर का जल संचय मॉडल केजरीवाल सरकार दिल्ली में पूरी तरह लागू कर चुकी है। केजरीवाल सरकार बढ़ता जल संकट को देख दिल्ली में व्यापक स्तर पर काम करने में जुटी हुई हैं। ऐसे में मंत्री सत्येंद्र जैन ने डूंगरपुर जल संचय मॉडल की अनुसरण की पूरी योजना तैयार कर दिल्ली में लागू कर दी है।

दिल्ली सरकार के मंत्री डूंगरपुर के जल संचय मॉडल को लागू करने के बाद डूंगरपुर नगर परिषद के पूर्व सभापति के के गुप्ता के विजन की प्रशंसा की। जल संचय मॉडल के बाद अब दिल्ली सरकार डूंगरपुर के स्वच्छता की तर्ज पर दिल्ली में स्वच्छता करने को लेकर विचार कर चुकी है।

खबरें और भी हैं...