डीएम ने कहा:समस्त चिकित्सा संस्थानों पर प्रसव सुविधाएं मिले, शून्य डिलेवरी वालों को नोटिस दें

डूंगरपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक में स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार करने के निर्देश

जिला स्थास्थ्य समिति की बैठक में सोमवार को कलक्टर काना राम ने कहा कि आमजन तक स्वास्थ्य सेवाओं की पहुंच में कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। स्वास्थ्य सेवाओं पर प्राथमिक स्तर पर फोकस रहेगा। समस्त चिकित्सा संस्थानों पर प्रसव सुनिश्चित किए जाएं। डिलेवरी रहित संस्थाओं पर सुधार के अभाव में कार्यवाही करने की चेतावनी दी तथा शून्य डिलेवरी वाले चिकित्सा संस्थानों के चिकित्सा अधिकारी प्रभारी को नोटिस देने के लिए सीएमएचओ को पाबंद किया।

कलेक्टर ने कहा कि विभाग में प्रत्येक स्तर से लंबित प्रकरणों को निपटाने की कार्यवाही तुरंत शुरू हो एवं न्यून प्रगति वाले चिकित्सा संस्थाएं आगामी बैठक तक सुधार लाएं। कलक्टर ने कहा कि शत-प्रतिशत एएनसी रजिस्टर्ड करें एवं इस दौरान ही हाई रिस्क प्रेग्नेंसी की पहचान कर इलाज किया जाए। संस्थागत प्रसव को बढ़ाने के समुचित प्रयास किए जाने एवं क्षेत्र के बाहर जाने वाली डिलेवरियों पर संस्थाओं पर पर्याप्त सुविधाऐं विकसित कर अंकुश लगाया जाए।

टीकाकरण में ड्राप आऊट की लिस्ट तैयार कर टीकाकरण गैप कम करने, जेएसवाई व आरएसवाई में पेडिंग भुगतान करवाने, मातृ स्वास्थ्य सेवाओं में प्रगति लाने के लिए पुख्ता मॉनीटरिंग की आवश्यकता जताई।  मुख्यमंत्री नि:शुल्क दवा योजना में संस्थाओं पर दवाओं की उपलब्धता रखे जाने के लिए निर्देश दिए। उन्हीने कोविड -19 के सम्बन्ध में निर्देश देते हुए कहा कि हॉर्टस्पोट क्षेत्र, प्रवासी लोग व हाई रिस्क पेशंट के साथ जो व्यक्ति कोरोना से संक्रमित हुए हैं उनके संक्रमित होने का सॉर्स नही पता चलने वाले के साथ सभी की अधिक सैम्पलिंग कराने पर जोर दिया जाए।

बैठक में सीएमएचओ डॉ. महेन्द्र कुमार परमार, इस दौरान डिप्टी सीएमएचओ(हैल्थ) डॉ. लोकेश परमार, पीएमओ डॉ कांति लाल मेघवाल, सीएमएचओ(परिवार कल्याण) डॉ. आर.एस. वर्मा, कार्यवाहक आरसीएचओ डॉ.के.एल. पलात, डीपीएम जितिन जोनवाल सहित जिलास्तरीय एनएचएम कार्मिक मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...