पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Banswara
  • Dungarpur
  • District Vaccine Store Engulfed In Inconvenience: Staff's Breath Gets Stuck As Soon As The Light Goes Off, Generators Not Arranged To Maintain The Cooling Of Deep Freezers, No Water

वैक्सीन स्टोर:असुविधाओं में घिरा जिला वैक्सीन स्टोर: लाइट जाते ही अटकने लगती है स्टाफ की सांसें, डीप फ्रीजरों की कूलिंग बनाए रखने व्यवस्थित नहीं किया जनरेटर, पानी भी नहीं

डूंगरपुर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सीएमएचओ कार्यालय परिसर स्थित जिला वैक्सीन स्टोर में कर्मचारियों को काफी असुविधाओं व अव्यवस्थाओं का सामना करना पड़ रहा है। सबसे बड़ी अव्यवस्था तो यहां जनरेटर को लेकर हैं। स्टोर पर हर समय 1.5 से 2 लाख वैक्सीनों की संख्या रहती है। इनको विशेष डीप फ्रीजरों में रखा जाता है। लाइट जाते ही स्टाफ की परेशानियां बढ़ जाती है। क्योंकि लाइट जाते ही डीप फ्रीजरों का तापमान बढऩे लगता है। जिससे वैक्सीनों के खराब होने का डर सताने लगता है।

कोविड वैक्सीन सहित अन्य कई वैक्सीनों को माइनस तापमान पर रखना होता है। इमरजेंसी के लिए जनरेटर लगाने के कई बार अधिकारियों को लिखित में बोल चुके, लेकिन सुनवाई आज तक नहीं हुई, जबकि सीएमएचओ कार्यालय व अन्य कार्यालयों में एसी चलाने के लिए इसकी व्यवस्था है। कर्मचारियों की मानें तो अव्यवस्थाएं यहीं पर खत्म नहीं होती है। पीने के लिए पानी तक की व्यवस्था नहीं हैं। कर्मचारियों को अपने घर से पानी लाना पड़ता है। यहां प्रभारी सहित तीन कर्मचारी है, तीनों ही महिलाएं हैं। बाथरूम में पानी की टंकी तो लगी है लेकिन सप्लाई लाइन में फाल्ट होने से कई कई दिन तक पानी नहीं पहुंचता है। ऐसी स्थिति में दूसरे कार्यालयों के बाथरूम का उपयोग करना पड़ता है।

कर्मचारियों का अधिकांश समय वैक्सीन स्टोर में ही गुजरता है। डीप फ्रीजरों से निकलने वाली गर्म हवा से यहां से तापमान शरीर को झुलसाने वाला रहता है। दोपहरी में भीषण गर्मी के बीच स्टोर में बैठना तो दूर खड़ा होना भी मुश्किल हो जाता है। कमरे का तापमान नियंत्रित करने रखने के लिए सिर्फ यहां पंखे लगे है, जबकि चार एसी की जरूरत है।

करीब साल पूर्व एक एसी लगा भी तो उसे सीएमएचओ कार्यालय का एक अधिकारी यहां से खोलकर अपने कमरे में ले गया। कर्मचारियों ने बताया कि पंखे कमरे को ठंडा नहीं कर पाते हैं। अधिकारियों को कई बार बोला है लेकिन समस्या का समाधान नहीं हुआ है।

खबरें और भी हैं...