गुजरात से लाए बायाेडीजल:हाइवे पर बना रहे थे फर्जी बायाेडीजल पंप,13 हजार 900 लीटर डीजल से भरा टैंकर, पंप, जनरेटर जब्त

डूंगरपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पंप स्थापित करने के लिए रखा गया जनरेटर। - Dainik Bhaskar
पंप स्थापित करने के लिए रखा गया जनरेटर।
  • साबरकाठा व बनासकाठा के दो आराेपी गिरफ्तार, वैध दस्तावेज नहीं मिले

जिला स्पेशल टीम व रतनपुर चाैकी ने नेशनल हाइवे पर खजुरी के पास शुक्रवार रात काे दबिश देकर अवैध बायाेडीजल से भरा टैंकर पकड़ा है। इसमें करीब 13 हजार 900 लीटर बायाेडीजल से भरे टैंकर काे सीज किया। टीम काे माैके से डीजल पंप, जनरेटर व नाेजल भी मिला है। पुलिस ने माैके से गुजरात निवासी दाे आराेपियाें काे गिरफ्तार किया। पुलिस टीम काे माैके से जिस तरह के उपकरण मिले हैं, ऐसे में लग रहा है कि यहां पर बायाेडीजल पंप स्थापित करने की तैयारी चल रही थी।

बायाेडीजल से भरे टैंकर काे गुजरात से यहां पर लाया जाना बताया जा रहा है। एक-दाे दिन से इसकी तैयारी चल रही थी। जिला स्पेशल टीम काे मुखबिर के जरिए सूचना मिली कि हाइवे पर अवैध रुप से बायाेडीजल का टैंकर खड़ा है। इसके पास उपकरण भी है। पंप संचालित हाेने वाला है। डीएसटी के हैड कांस्टेबल नवीन कुमार, कांस्टेबल महावीर, मुकेश,यशपाल सिंह, चालक पंकज व रतनपुर चाैकी प्रभारी सुशील कुमार व कांस्टेबल जितेंद्र ने दबिश दी। टैंकर के साथ पंप स्थापित करने का सामान माैके से मिला।

आराेपी टैंकर में गुजरात से बायाेडीजल लेकर आ रहे थे। यहां बेचने आना बताया है। रसद विभाग के प्रवर्तन निरीक्षक विपिन जैन, तहसीलदार पु्ष्पेंद्र सिंह व कार्यवाहक बिछीवाड़ा थानाधिकारी प्रभुलाल ने गुजरात के बनासकाठा जिले के ब्राह्मणावास मुलकपुर निवासी सतीश कुमार पुत्र दलछा भाई जाेशी व साबरकाठा जिले के रानाबाड़ा निवासी जगदीशराम पुत्र गाेविंद भाई रावल के पास से बायाेडीजल के संबंध में दस्तावेज मांगे ताे दस्तावेज नहीं मिले।

रसद विभाग के प्रवर्तन निरीक्षक विपीन कुमार की रिपाेर्ट पर बिछीवाड़ा पुलिस ने राजस्थान जैव ईधन अधिनियम 2019 व अन्य धारा में प्रकरण दर्ज कर लिया है। जांच के लिए रसद विभाग ने बायाेडीजल का सैंपल लिया है।

गिरफ्तार
गिरफ्तार

भास्कर EXPLAINER - सस्ते में मिल जाता है बायाेडीजल

डीजल 100 रुपए पार और बायाेडीजल 60-70 रुपए वाहन चालक फायदे के लिए अवैध रूप से भरवाते हैं

बताया जा रहा है कि अवैध रूप से बायाेडीजल प्रति लीटर 60 से 70 रुपए के बीच बेचा जाता है। इस समय डीजल के दाम करीब 100 रुपए है। बायाेडीजल अवैध रूप से डीजल के मार्केट दाम से कम दाम में बेचा जाता है। इससे संचालक काे फायदा हाेने के साथ वाहन चालकाें काे भी फायदा हाेता है। दरअसल, करीब 8 माह पहले जिला पेट्राेल पंप एसाेसिएशन की ओर से कलेक्टर काे ज्ञापन देकर बायाेडीजल के नाम पर अवैध रूप से डीजल बेचे जाने की शिकायत की थी।

इसके बाद प्रशाासन की नजर इस तरफ गई। देखा जाए ताे अवैध रुप से बायाेडीजल के बेचे जाने से पेट्राेल पंप संचालक काे भारी नुकसान हाेता है। यदि डीजल 100 रुपए में बिक रहा है और बायाेडीजल 70 रुपए में बेचा जा रहा है ताे सीधे 30 रुपए का फायदा चालक काे हाे गया, लेकिन पेट्राेल पंप संचालक काे इससे राेजाना नुकसान झेलना पड़ता है।

गुजरात से बड़े स्तर पर चल रहा है अवैध बायोडीजल की बिक्री का खेल

बायाेडीजल व मिलावटी डीजल की बिक्री का यह पूरा खेल गुजरात से चल रहा है। गुजरात के बडे़ शहराें से विभिन्न माध्यम से डूंगरपुर जिले के विभिन्न गांवाें में इसकी सप्लाई हाे रही है। अब तक इस मामले में 4 से 5 कार्यवाही हाे चुकी है। जिला स्पेशल टीम ने बायाेडीजल के खिलाफ पूर्व में भी कार्यवाही की थी। इस दाैरान हाईवे पर इंडस्ट्री अाॅयल के नाम पर बायाेडीजल बेचते फर्जी पेट्राेल पंप पकड़ा था। इसके अलावा अासपुर थाना क्षेत्र के रायकी गांव में चलता फिरता बायाेडीजल पंप काे पकड़ा था। इसके अलावा वाहन काे पकड़ा था।

जब्त से भरा टैंकर।
जब्त से भरा टैंकर।
खबरें और भी हैं...