पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

त्योहार:जनवरी का अंतिम सप्ताह व्रत उपवास और दान-धर्म के नाम, 26 को प्रदोष व्रत

डूंगरपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आज पुत्रदा एकादशी व 31 को तिलकुटा चौथ

जनवरी का अंतिम सप्ताह व्रत उपवास और दान धर्म के नाम रहेगा। 24 जनवरी से 31 जनवरी तक कई व्रत, उपवास, धर्म कर्म और तीज त्यौहार आएंगे। 24 जनवरी रविवार को महिलाएं संतान की लंबी उम्र और संतान प्राप्ति की कामना के साथ पुत्रदा एकादशी का व्रत करेगी तो 26 जनवरी मंगलवार को श्रद्धालु भोलेनाथ की आराधना में लीन रहेंगे।

मंगलवार को भौम प्रदोष व्रत रहेगा। इसके बाद 28 जनवरी गुरुवार को पौष महीने की पूर्णिमा रहेगी। पौष पूर्णिमा पर स्नान दान और दान धर्म, स्नान का लंबा दौर चलता है। ज्योतिषशास्त्री पंडित भवानी खंडेलवाल ने बताया कि अखंड सौभाग्य की कामना के साथ महिलाएं रविवार 31 जनवरी को माही चौथ यानी तिलकुटा चौथ का व्रत करेगी और कड़ाके की ठंड में चांद के दीदार के लिए रात में छत पर चंद्रमा का इंतजार करेगी।

28 जनवरी, पौष पूर्णिमा: माघ स्नान प्रारंभ, गुरु पुष्य और सर्वार्थ सिद्धि योग भी रहेगा

28 जनवरी गुरुवार को पौष मास की पूर्णिमा के साथ पिछले 1 माह से चला आ रहा पौष का महीना समाप्त हो जाएगा। इस दिन गुरु पुष्य नक्षत्र और पूरे दिन सर्वार्थ सिद्धि योग भी रहेगा।

स्नान दान और दान धर्म के लिए यह दिन सबसे उत्तम कहा गया है। ज्योतिषशास्त्री प्रो. विनोद शास्त्री ने बताया कि पौष महीने की पूर्णिमा से ही माघ महीने का नियमित स्नान प्रारंभ हो जाएगा। माघ महीने में संगम के तट पर लोग रहकर स्नान करते हैं। दान पुण्य करते हैं।

इस बार कोरोना महामारी के चलते घर में रहकर प्रतिदिन गंगाजल से स्नान और भगवान विष्णु का नियमित ध्यान करना चाहिए। पुराणों के अनुसार, माघ माह में स्नान करने से अक्षय फल की प्राप्ति होती है। दरअसल, पौष पूर्णिमा के दिन ग्रह-नक्षत्रों की विशेष स्थिति चंद्र आदि ग्रहों के माध्यम से अमृत वर्षाकर स्नान आदि करने वालों को निरोगी काया सहित पुण्य लाभ प्रदान करती है।

  • 24 जनवरी : संतान प्राप्ति के लिए यह व्रत सबसे उत्तम है। इस महीने यह व्रत पौष मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी के दिन किया जाएगा। इस दिन व्रत करने से निसंतान दंपत्तियों को संतान सुख मिलता है। इस एकादशी का व्रत रखने वाले व्रतियों को व्रत से पूर्व दशमी के दिन ही एक समय सात्विक भोजन ग्रहण करना चाहिए।
  • }26 जनवरी : प्रदोष का व्रत भगवान शंकर को प्रसन्न करने के लिए किया जाता है। इस व्रत को करने से शिवजी का आशीर्वाद मिलता है और सौ गाय दान देने के बराबर फल की प्राप्ति होती है। इस दिन प्रदोष व्रत मंगलवार के दिन है, इसलिए इसे भौम प्रदोष व्रत कहा जाता है। वैसे ही इसे अलग-अलग नामों से जाना जाता है, जैसे सोम प्रदोष, भौम प्रदोष और शनि प्रदोष।
  • 31 जनवरी : माघ मास के कृष्ण पक्ष में आने वाली चतुर्थी तिथि को संकटा चौथ अथवा तिलकुटा चौथ कहा जाता है। यह तिथि 31 जनवरी रविवार को है। गुड़ और तिल से बने तिलकुटा का गणेश जी, चौथ माता और चंद्रमा को भोग लगाया जाता है।
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से उत्साह में वृद्धि होगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी विजय हासिल...

    और पढ़ें