पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राशन के गेहूं की कालाबाजारी:पहली बार दी डूंगरपुर जिला ट्रांसपोर्ट कोऑपरेटिव सोसायटी के अध्यक्ष, सचिव, कोषाध्यक्ष समेत 7 लाेगाें के खिलाफ केस

डूंगरपुर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • चौरासी थानाधिकारी कर रहे जांच, 214 किलाे गेहूं अन्य स्थान पर उतारने की संभावना

रसद विभाग की टीम ने पिछले दिनाें पाड़ली गूजरेश्वर गांव में गेहूं की कालाबाजारी करते ट्रक पकड़ने के मामले में प्रवर्तन निरीक्षक भंवराराम चौधरी ने राशन परिवहन कर्ता दी डूंगरपुर जिला ट्रांसपोर्ट कोऑपरेटिव सोसायटी के अध्यक्ष, सचिव, काेषाध्यक्ष, ट्रक चालक, ट्रक मालिक समेत 7 लाेगाें के खिलाफ चौरासी पुलिस थाने में आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज कराया है।

थानाधिकारी बंशीलाल पाटीदार ने मामले की जांच शुरू कर दी है। पुलिस रिपोर्ट के अनुसार विस्तृत पूछताछ में वखतराम ने बताया कि गेहूं के 8 कट्टे पाड़ली गूजरेश्वर निवासी सुरेश कलाल के कहने पर उतारे गए। माैके पर 1024 किलो गेहूं की कालाबाजारी मिली। थाेक विक्रेता खाद्यान्न राजस संघ डूंगरपुर के खाद्यान्न परिवहन का कार्य दी डूंगरपुर जिला ट्रांसपोर्ट कोऑपरेटिव सोसायटी डूंगरपुर द्वारा अनुबंध के आधार पर किया जा रहा है।

उचित मूल्य दुकान तक राशन पहुंचाने का दायित्व परिवहनकर्ता का ही है। प्रवर्तन निरीक्षक की रिपोर्ट पर पुलिस ने ट्रक चालक प्रकाशचंद्र राेत, मकान मालिक वखतराम, ट्रक मालिक हेमलता पत्नी विनोद कुमार कलाल, पाड़ली गूजरेश्वर निवासी सुरेश पुत्र मोतीलाल कलाल एवं दी डूंगरपुर जिला ट्रांसपोर्ट कोऑपरेटिव सोसायटी के अध्यक्ष, सचिव, कोषाध्यक्ष थाणा निवासी रामलाल पुत्र भोगीलाल पटेल, नवाडेरा निवासी गुरुप्रसाद पुत्र मणीलाल पटेल, मांडवा निवासी लक्ष्मणसिंह सिसोदिया के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

1024 किलाे गेहूं सांसरपुर डीलर काे किया सुपुर्द

जानकारी के अनुसार एफसीआई गाेदाम से 118.29 क्विंटल की गेहूं की बिल्टी लेकर ट्रक चालक डूंका गांव में राशन डीलर पूंजीलाल के यहां जाने के लिए निकला था। इसके बाद ट्रक काे पाडली गूजरेश्वर में चक्की चलाने वाले वखतराम के यहां पर गेहूं उतार दिया था। इसके मकान में गेहूं के कट्टे मिलने से रसद विभाग काे पता लग गया कि चालक की तरफ से कालाबाजारी की जा रही है।

ट्रक डूंगरपुर से बिल्टी के अनुसार 2.14 बजे निकला। जाे काफी देर तक पाडली गूजरेश्वर में रुका रहा। कुल 1024 किलाे गेहूं काे लैम्पस सांसरपुर के सेल्समैन कमल सिंह अहाड़ा काे सुपुर्द किया गया है। 214 किलाे 400 गेहूं काे किसी अन्य स्थान पर उतारने की संभावना प्रतीत हाेती है। ट्रक समेत गेहूं काे चौरासी पुलिस थाने में रखवाया गया है।

यह था मामला- 7 सितंबर को एक घर में मिला था गेहूं

रसद विभाग की टीम 7 सितंबर काे चिखली में जनाधार कार्ड की बैठक के लिए गई थी। शाम के समय जिला रसद अधिकारी हजारीलाल अालाेरिया, प्रवर्तन निरीक्षक पुष्पेंद्र सिंह, भंवराराम चौधरी डूंगरपुर की तरफ जा रहे थे। इस दाैरान राशन से भरा ट्रक पाड़ली गूजरेश्वर में रुका हुअा था। टीम ने चालक प्रकाशचंद्र राेत काे यहां पर रुकने का कारण पूछा ताे ट्रक चालक ने कहा कि तार खराब हाे गया, उसे जाेड़ने का काम कर रहा हूं।

ट्रक काे यहां पर राेकना संदिग्ध लगा। चक्की की दुकान चलाने वाले वखतराम का पास में एक मकान था। टीम ने वहां जाकर देखा ताे राशन के गेहूं के कट्टे मिले। ट्रक काे यहां पर राेक कर गेहूं काे कट्टाें काे उतार कर रखा था। मकान से करीब 20 कट्टे मिले। चालक से पूछताछ की गई, लेकिन काेई सही तरीके से जवाब नहीं दिया। इस पर ट्रक काे कांटे पर तुलाई की गई ताे 640 किलाे गेहूं कम निकला। इस तरह से कुल 1024 किलाे गेहूं की कालाबाजारी करने का मामला सामने अाया है।

खबरें और भी हैं...