• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Dungarpur
  • If The Administration Wanted To Get It Made By Going Home, Then The Thumbs And Toes Were Not Found, Now The Identity Card Will Be Made By Removing Technical Flaws.

दिव्यांग बेटियों का आधार कार्ड नहीं बना:प्रशासन ने घर जाकर बनवाना चाहा तो हाथ-पैरों के अंगूठे नहीं मिले,अब तकनीकी खामियों को दूर कर बनेगा पहचान-पत्र

डूंगरपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
दिव्यांग बेटी के परिजनों से बातचीत करते पालिकाध्यक्ष व अन्य। - Dainik Bhaskar
दिव्यांग बेटी के परिजनों से बातचीत करते पालिकाध्यक्ष व अन्य।

सागवाडा नगर पालिका के वार्ड 2 इंदिरा कॉलोनी में दो दिव्यांग बेटियों को आधार कार्ड के अभाव में सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा था। मामला सामने आने के बाद पालिकाध्यक्ष व ईओ के साथ सरकारी अमले के साथ दोनों के घर पहुंच गए। मगर दोनों लड़कियों के हाथ-पैरों के अंगूठे नहीं होने से आधार कार्ड नहीं बन पाया। जिस पर प्रशासन व सरकार के मार्गदर्शन से तकनीकी खामियों को दूर कर आधार कार्ड बनाने के निर्देश दिए है।

वार्ड 2 में लगा शिविर
सागवाडा नगरपालिका क्षेत्र के वार्ड संख्या 2 इंदिरा कॉलोनी के सामुदायिक भवन में प्रशासन शहरों व गांवों के संग शिविर लगाया गया। पार्षद फारुख लखारा ने बताया कि शिविर के दौरान वार्ड की 2 दिव्यांग बेटियों सिमरन (23) पुत्री इदरीस लखारा और अकसाना (22) पुत्री मोहम्मद रफीक का मामला सामने आया। दोनों लड़कियों के आधार कार्ड नहीं होने के कारण सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

खाट पर लेटी दिव्यांग से बात करते हुए।
खाट पर लेटी दिव्यांग से बात करते हुए।

दोनों के घर पहुंचा प्रशासन
मामले की जानकारी पर पालिकाध्यक्ष नरेंद्र खोड़निया,उपाध्यक्ष राजु मामा शेख, ईओ मोहित कुमार मोहिल, पार्षद फारुख लखारा अधिकारियों की टीम के साथ दोनों के घर पहुंच गए। सिमरन लखारा के दोनों हाथ व पैरों के अंगूठे नहीं होने से मौके पर आधार कार्ड नहीं बनाया जा सका। अकसाना के भी हाथ और पैरों के अंगुलियां नहीं होने से आधार कार्ड नहीं बन सका। इस पर पालिकाध्यक्ष ने ईओ को कलेक्टर से बातचीत करते हुए दोनों बेटियों के आधार कार्ड बनाकर सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाने के निर्देश दिए।

खबरें और भी हैं...