पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

उपद्रव:13 विधायकाें की एसटी कमेटी की बैठक में साफ हाे गया था कि अनारक्षित पद एसटी से नहीं भरे जा सकते : मीणा

डूंगरपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आसपुर विधायक का डूंगरपुर उपद्रव पर बड़ा बयान

आसपुर से भाजपा विधायक गोपीचंद मीणा ने शिक्षक भर्ती उपद्रव को लेकर बीटीपी और कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए बड़ा बयान दिया है। विधायक ने कहा कि उपद्रव की घटना बीटीपी और कांग्रेस की साजिश थी। 1167 रिक्त पदों को लेकर यहां के आदिवासी छात्रों को गुमराह करने का काम किया है। इसके बाद उन्होंने युवाओं को उकसाया। फिर पहाड़ी पर जाकर बैठ गए।

सरकार ने इस मामले में कोई स्पष्टता नहीं रखी। कुछ जनप्रतिनिधियों ने यह कह दिया कि इन सीटों पर जनजाति के अभ्यर्थियों को भर्ती किया जाएगा। जबकि यह सीट अनारक्षित वर्ग की है। मतलब सभी वर्ग के लोग शामिल है, फिर कुछ जनप्रतिनिधियों ने अभ्यर्थियों को उकसाने का काम किया। इसके बाद जो हुआ, इसके लिए वही लोग जिम्मेदार हैं, जिन्होंने युवाओं को उकसाने का काम किया है।

विधायक गोपीचंद ने कहा कि एसटी कमेटी की बैठक में उन्होंने साफ कह दिया था कि ऐसा नहीं हो सकता है। बैठक में बांसवाड़ा से कांग्रेस के महेन्द्रजीत सिंह मालवीया एसटी कमेटी के अध्यक्ष है और 13 विधायक इसमें हैं। इस बैठक में डूंगरपुर और बांसवाड़ा से बेरोजगार 2-2 विद्यार्थी भी आए थे। उसी समय मैंने साफ कह दिया कि वह जो चाहते हैं, वह नहीं हो सकता है। लेकिन बीटीपी और कांग्रेस ने अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने के लिए छात्रों को गुमराह किया।

पूरे मामले में बीटीपी और कांग्रेस मिले हुए

उपद्रव के सवाल पर विधायक ने कहा कि इस पूरे मामले में बीटीपी और कांग्रेस मिले हुए है। जो पढ़ने वाले बच्चे थे, उनको पढ़ने देते तो पढ़-लिखकर वह होशियार बनते, लेकिन कांग्रेस के लोगों ने ऐसा होने नहीं दिया। विधायक गोपीचंद ने कहा कि 4-5 विधायकों ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर भी भेजा था कि 1167 रिक्त सीटों को एसटी वर्ग से भरी जाए लेकिन ऐसा वे भी नहीं कर सके।

दोनों हो पार्टियों की खिचड़ी में यहां के भोले-भाले आदिवासी छात्रों का भविष्य खराब हो रहा है। इन सबके जिम्मेदार कांग्रेस और बीटीपी के नेता हैं। विधायक गोपीचंद मीणा ने कहा कि राज्य में कांग्रेस का आपस में कभी तालमेल नहीं बैठा। मुख्यमंत्री गहलोत और सचिन पायलट में नहीं बन रही।

खबरें और भी हैं...