पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बंधन टूटा:25 अप्रैल को शादी; 2 मई को मौत, 8वें दिन लक्ष्मी फिर अकेली

डूंगरपुर/बिलड़ी14 दिन पहलेलेखक: तनुज शर्मा/रामशंकर रोत
  • कॉपी लिंक
बिलड़ी. दांदरोड़ा गांव के रूपलाल की 25 अप्रैल को शादी रातड़िया की लक्ष्मी से हुई। उसके अगले ही दिन उसकी तबीयत खराब होने लगी। रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। 2 मई को रूपलाल की मौत हो गई। - Dainik Bhaskar
बिलड़ी. दांदरोड़ा गांव के रूपलाल की 25 अप्रैल को शादी रातड़िया की लक्ष्मी से हुई। उसके अगले ही दिन उसकी तबीयत खराब होने लगी। रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। 2 मई को रूपलाल की मौत हो गई।

अभी हाथ की मेहंदी भी नहीं सूखी थी, न पगफेरा हुआ था और शादी की खुशियां मातम में बदल गई। 25 अप्रैल काे सात फेरे काे बंधन में बधे एक जाेड़े काे काेराेना ने अलग कर दिया। उसके घर के आंगन में अभी तक मंडप की लकड़ियां बंधी हुई हैं। उसी आंगन से अर्थी निकालनी पड़ी।

दरअसल गलियाकाेट पंचायत समिति के दांदराेड़ा गांव में 24 साल के रूपलाल राेत की काेराेना से रविवार देर रात माैत हाे गई। रुपलाल के पिता हरजी राेत कृषक हैं। रूपलाल ने संस्कृत में बीए और एमए करने के बाद बीएड की। लॉकडाउन के कारण वह हाल में अपने घर दांदरोड़ा गांव में रहकर रीट की तैयारी कर रहा था। इसी दरम्यान उसकी शादी रातड़िया की लक्ष्मी से 25 अप्रैल काे तय हुई। इसके साथ ही उसकी दाे बहनाें की शादी भी 27 और 30 अप्रैल काे थी।

23 अप्रैल काे रूपलाल काे बुखार आने पर चितरी में इलाज कराया। 24 और 25 अप्रैल काे काेई तकलीफ नहीं हुई। 26 अप्रैल काे सागवाड़ा में काेराेना की जांच कराई। 28 अप्रैल काे रिपोर्ट पाॅजिटिव आने के साथ ही उसे पहली बार थाेड़ी घबराहट हाेने लगी। इसकी जानकारी रात काे अपने काका सरपंच जगदीश राेत काे दी। जगदीश ने तुरंत 29 अप्रैल काे सागवाड़ा के दाे निजी अस्पताल में लेकर गए। तब तक उसकाे सांस लेने में तकलीफ शुरू हाे गई।

दाेनाें अस्पतालों में दिनभर घूमे, लेकिन बेड नहीं था तो कहीं ऑक्सीजन सिलेंडर था। 29 अप्रैल काे जगदीश उसे मेडिकल काॅलेज अस्पताल डूंगरपुर में रात 11 बजे लेकर आए। यहां पर इमरजेंसी में दिखाकर उसे काेविड अस्पताल में भर्ती किया। यहां भी सारसंभाल ठीक से नहीं हुई। इससे परेशान परिजन 30 अप्रैल दोपहर काे दवाइयां लेकर अपने गांव आ गए। जहां पर 2 मई काे रात काे उसकी मृत्यु हाे गई।

आरोप: दो दिन तक ऑक्सीजन सिलेंडर नहीं मिला
रात 11.30 भर्ती हाेने के बाद डॉक्टर सिर्फ एक बार रूपलाल राेत काे देखकर चले गए। इसके बाद कंपाउडर ने कहा कि जहां बेड मिले वहां पर साे जाओ। इसके बाद दाे इंजेक्शन लगाकर गाेली खाने के लिए दी। जगदीश ने बताया कि ऑक्सीजन की कमी है। सिलेंडर नहीं थे, 29 अप्रैल की पूरी रात सिलेंडर का इंतजार किया काेई स्टाफ सिलेंडर लेकर नहीं आया। 30 अप्रैल की सुबह 11 बजे तक काेई डॉक्टर नहीं आया।

उन्होंने मेडिकल काउंटर या स्टाफ ड्यूटी पर जाकर कहा भी ऑक्सीजन लगाकर रूपलाल काे बचाओ काेई सुनने वाला नहीं मिला। इस बीच वार्ड में लगातार मौतें हाे रही थीं। इससे रूपलाल का मनोबल टूटता जा रहा था। पूरे परिवार ने रूपलाल राेत तड़पते हुए मरते देखा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

    और पढ़ें