हेल्पलाइन नंबर 155260 पर करें शिकायत:6 महीने में साइबर ठगी के 100 से ज्यादा केस हुए दर्ज, 30 लाख रुपये दिलाए गए वापस

डूंगरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
साइबर टीम का पुलिसकर्मी ऑनलाइन फ्रॉड पर वर्क करते। - Dainik Bhaskar
साइबर टीम का पुलिसकर्मी ऑनलाइन फ्रॉड पर वर्क करते।

डिजिटल जमाने में साइबर अटैक पुलिस के लिए बड़ी चुनौती बन चुका है। हाइटेक तरीके से ठगी का ट्रेंड बदल गया है। जिससे लोग आसानी से ठगी के शिकार हो रहे हैं। लाखों रुपये ठगों के खातों में ट्रांसफर हो रहे हैं। साइबर ठगी से बचने के लिए्र पुलिस और बैंक कई तरह की चेतावनी जारी कर रहे है। उसके बाद भी लोग फ़्रॉड के हाईटेक तरीकों के शिकार हो रहे है।

प्रदेश के आदिवासी बहुल डूंगरपुर जिले में भी साइबर क्राइम का ग्राफ बढ़ता जा रहा हैं। डूंगरपुर पुलिस की साइबर टीम ऑनलाइन फ्रोड राशि को वापस दिलाने में अहम भूमिका निभा रही है। डूंगरपुर जिले की साइबर सेल में कांस्टेबल अभिषेक मीणा, राहुल त्रिवेदी, हेमेन्द्र सिंह, जोगेंद्र सिंह साइबर ठगी के मामलों को देख रहे हैं। पीड़ित लोगों के रुपये वापस दिलाने में जुटे हैं।

साइबर सेल ने पास पिछले 6 माह में 100 से अधिक मामले आए। पुलिस ने त्वरित कार्रवाई कर बैंक अधिकारियों के माध्यम से ठगों के खातों को ब्लाक करवाया। ठगे गए करीब 30 लाख की राशि रिफंड करवाई है। जिससे आमजन में पुलिस के प्रति विश्वास बढ़ा है। वहीं, कुछ रकम बैंके के जरिए होल्ड पर रखी है, जो जल्द पीड़ितों को वापस होगी।

डुंगरपुर एसपी सुधीर जोशी ने बताया की वीडियो कॉल के जरिये अधिकतर लोगों से ब्लेकमेलिंग हो रही है। मोबाइल पर लिंक भेज कर व सोश्यल मीडिया का अकाउंट हेक कर ठगी के मामले सामने आ रहे है। जिनके खिलाफ डूंगरपुर साइबर सेल त्वरित कार्रवाई कर रही है। ऑनलाइन अपराध की शिकायत तुरंत मिल जाती है तो ठगी गई रकम वापस लाने की गारंटी 95 फीसदी से अधिक की हो जाती है। ऐसे में अगर किसी के साथ ऑनलाइन अपराध होता है। उसकी सुचना तुरंत साइबर सेल को या हेल्प लाइन नम्बर 155260 पर दे सकते हैं।

खबरें और भी हैं...