मां! ऐसी तो नहीं होती...:जन्म के 8 घंटे बाद झाड़ियों में फेंक दिया, कीड़े-मकोड़े काटते रहे, तड़पती रही नवजात बच्ची; गांववालों ने अस्पताल पहुंचाया, हालत स्थिर

डूंगरपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नवजात बच्ची को स्थानीय लोगों ने संभाला और अस्पताल में भर्ती कराया। - Dainik Bhaskar
नवजात बच्ची को स्थानीय लोगों ने संभाला और अस्पताल में भर्ती कराया।

जिले के बाेरी गांव के केतन फला में ममता काे शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है। निर्दयी मां ने नवजात बच्ची काे जन्म देने के कुछ घंटाें बाद ही झाड़ियाें में फेंक दिया। बच्ची को कीड़े-मकोड़े काटते रहे और वह रोती-तड़पती रही। शुक्र है कि पास में रहने वाले ने उसकी आवाज सुनी और उसे मातृ शिशु अस्पताल में दाखिल कराया गया, जहां उसकी हालत अब स्थिर बनी हुई है।

कोतवाली पुलिस थाना क्षेत्र के बोरी केतन फला गांव में पूंजीलाल डामोर के घर के पास कंटीली झाड़ियों में गुरुवार सुबह एक नवजात के रोने की आवाज सुनाई दी। पास ही रहने वाले पूंजीलाल ने जाकर देखा तो उसके होश उड़ गए। सामने नवजात बच्ची थी। उसके शरीर को कीड़े-मकोड़े काट रहे थे। उसने बिना समय जाया किए उसे उठाया। इतने में बड़ी संख्या में ग्रामीण भी एकत्रित हाे गए। चाइल्ड लाइन और 108 एंबुलेंस काे सूचना दी गई। चाइल्ड लाइन से दिलीप और 108 एबुलेंस से ताराचंद भाेई माैके पर पहुंचे। बच्ची काे मातृ शिशु अस्पताल के एफबीएनसी वार्ड में भर्ती कराया गया है।

इधर, सूचना मिलते ही काेतवाली पुलिस टीम अस्पताल पहुंची। जिस स्थान से बच्ची मिली है, उस स्थान के बारे में लाेगाें से जानकारी ली। पुलिस ने अज्ञात महिला की तलाश शुरू कर दी है। बताया जा रहा है कि बच्ची काे सुबह 8 से 9 बजे के बीच झाड़ियों में देखा गया था।

मातृ एवं शिशु अस्पताल के शिशु राेग विशेषज्ञ डाॅ. कल्पेश जैन ने बताया कि बच्ची काे सुबह अस्पताल में भर्ती कराया गया। उसका वजन ढाई किलाे है। देखने से लगा कि उसका जन्म सुबह अस्पताल लाने से 8-10 घंटे पहले हुआ है। बच्ची काे सांस की तकलीफ हाेने पर ऑक्सीजन लगाया गया। अब उसकी हालत स्थिर बनी हुई है।

न्यूज: सिद्दार्थ शाह

खबरें और भी हैं...