पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

डेमेज फैक्टर बढऩे की संभावना:कोविड-19 वैक्सीन का डेमेज कम करने वाली एडी सीरिंज की सप्लाई दो माह से नहीं

डूंगरपुर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • विशेषज्ञ- 0.5 एमएल की एडी सीरिंज कोविड वैक्सीनेशन के लिए ही बनाई है
  • इससे डेमेज 1.1%, सामान्य सीरिंज से 1.3 से 1.4% डेमेज की संभावना रहती है

कोविड-19 वैक्सीनेशन में उपयोग की जाने वाली एडी सीरिंज की जिले को दो माह से सप्लाई नहीं मिली है। जिले के अनेक सेंटरों पर एडी सीरिंज खत्म हो चुकी है। ऐसे में मेडिकल टीम को सामान्य सीरिंज से लोगों को वैक्सीन लगानी पड़ रही है। सामान्य सीरिंज से वैक्सीन लगाने में वैक्सीन की गुणवत्ता या वैक्सीन लगवाने वाले व्यक्ति को कोई परेशानी नहीं है, लेकिन इसमें वैक्सीन का डेमेज फैक्टर बढऩे की संभावना ज्यादा हो गई है।

विशेषज्ञों की मानें तो एडी सीरिंज से वैक्सीन का डेमेज फैक्टर कंपनी के अनुसार 1.1 है। वहीं सामान्य सीरिंज से यह डेमेज फैक्टर 1.3 और 1.4 तक पहुंच सकता है। सामान्य सीरिंज के उपयोग से वैक्सीन का डेमेज बढऩा तब और ज्यादा चिंता का विषय बन जाता है, जब वैक्सीन की उपलब्धता जरूरत के अनुसार कम हो। ऐसे में हमें वैक्सीन की एक-एक डोज को बचाकर वंचित लोगों को इसे लगाने के लिए सावधानी पूर्वक काम कर रहे हैं। वहीं सिर्फ सीरिंज की वजह से वैक्सीन का डेमेज बढ़ जाए तो यह काफी चिंताजनक है।

एडी सीरिंज से वैक्सीन लगाते समय ज्यादा दर्द नहीं होता है, सामान्य सीरिंज में हवा भी साथ आती है

कोविड-19 वैक्सीन के लिए कंपनियों ने 0.5 एमएल की विशेष एडी सीरिंज बनाई है, क्योंकि एक व्यक्ति को 0.5 एमएल की एक डोज एक बार में देनी होती है। वैक्सीन की डोज की मात्रा के अनुसार अलग-अलग प्रकार की एडी सीरिंज होती है। एडी सीरिंज की सबसे बड़ी खासियत यह होती है कि इसमें जब बाइल से वैक्सीन लेते हैं तो इसमें 0.5 एमएल से ज्यादा नहीं आती है। इसकी निडिल भी साइज भी कम है। इससे व्यक्ति को एडी सीरिंज से वैक्सीन लगते समय ज्यादा दर्द नहीं होता है।

जबकि सामान्य सीरिंज 1 एमएल, 2 एमएल, 5 एमएल आदि की रहती है। सामान्य सीरिंज में वाइल से दवा भरने के दौरान हवा भी साथ में आ जाती है, सीरिंज से इस हवा को निकालने के लिए निडिल से दवा की एक दो बूंद बाहर निकालनी पड़ती है।

जयपुर मुख्यालय से करीब 1 लाख एडी सीरिंज की डिमांड भेजी है, जल्द ही सप्लाई मिलने वाली है। हमारा स्टाफ अब वैक्सीनेशन के लिए पूर्ण अभ्यस्त हो चुका है, इसलिए सामान्य सीरिंज से वैक्सीनेशन करने में समर्थ है। हालांकि इसमें वैक्सीन डेमेज तो होती है, लेकिन यह 1.1 डेमेज फेक्टर में ही कवर करने के प्रयास है।

- डॉ. राजेश शर्मा, सीएमएचओ

जिले को अब तक 811910 वैक्सीन के लिए मिली 806300 एडी सीरिंज, इसमें 1.1 डेमेज फैक्टर निकालें तो 86240 कम मिली सीएमएचओ कार्यालय के अनुसार जिले को अब तक कोविड-19 वैक्सीन की कुल सप्लाई 8 लाख 11 हजार 910 डोज मिली है। जबकि इतनी डोज को लगाने के लिए कुल एडी सीरिंज 806300 ही मिली है। इन एडी सिरिंज में से 1.1 डेमेज फैक्टर हटा दें तो शेष 86240 सिरिंज कम मिली है।

हालांकि वैक्सीन का भी डेमेज फैक्टर 1.1 है लेकिन हाल ही डूंगरपुर जिले ने वैक्सीन का डेमेज माइनस 1 तक पहुंचा दिया है। यानी जो वैक्सीन डेमेज हुई, उसे कवर लिया गया लेकिन एडी सीरिंज का डेमेज कवर करना मुश्किल हो रहा है।

खबरें और भी हैं...