कारोबारी की हत्या:सराेदा के रहने वाले निलंबित फरार आईपीएस मणिलाल पाटीदार पर एक लाख रुपए का इनाम

डूंगरपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मणिलाल पाटीदार - Dainik Bhaskar
मणिलाल पाटीदार

यूपी के महोबा जिले में पदस्थ था
यूपी के महोबा जिले के निलंबित फरार एसपी मणिलाल पाटीदार पर एडीजी जोन प्रयागराज ने 1 लाख रुपए का इनाम घोषित किया है। यह डूंगरपुर के सराेदा के हैं। महोबा में कारोबारी की हत्या के मामले में दर्ज मुकदमे के बाद से मणिलाल फरार चल रहे हैं। इससे पहले उन पर 50 हजार का इनाम घोषित किया गया था। महोबा में इंद्रकांत की हत्या के बाद शासन की तरफ से बिठाई गई एसआईटी की जांच में मणिलाल को भ्रष्टाचार में लिप्त होने और इंद्रकांत को आत्महत्या के लिए मजबूर किए जाने का दोषी बताया।

क्रेशर कारोबारी ने लगाया था आरोप

महोबा के क्रेशर कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी को पिछले साल 8 सितंबर को संदिग्ध परिस्थिति में गोली लगी थी। कानपुर के एक अस्पताल में इलाज के बाद उनकी 13 सितंबर को मौत हो गई। इससे पूर्व 7 सितंबर को इंद्रकांत ने एक वीडियो जारी कर पाटीदार पर आरोप लगाते हुए खुद की हत्या की आशंका जताई थी। आरोप लगाया था कि पाटीदार ने कारोबार करने के लिए 6 लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी। नहीं देने पर हत्या कराने या जेल भेजने की धमकी दी थी। इंद्रकांत की मौत के बाद उनके भाई रविकांत ने महोबा के पूर्व एसपी मणिलाल पाटीदार, कबरई थाने के तत्कालीन इंस्पेक्टर देवेंद्र व कांस्टेबल अरुण और दो अन्य के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसके बाद उसे महोबा जिले की कमान दी गई और एसपी बनाकर वहां भेजा गया।

नौकरी करते हुए कुछ महीने ही हुए थे और रिश्वत लेने के संगीन आराेप
अभी उसे नौकरी करते हुए कुछ महीने ही हुए थे लेकिन उस पर वसूली और रिश्वत के गंभीर आरोप लगने लगे। इसी दौरान मणीलाल ने महोबा के एक क्रेशर कारोबारी इन्द्रकांत त्रिपाठी से रिश्वत मांगी। एसपी मणिलाल ने उससे 6 लाख रुपए हर महीने देने की मांग की क्रेशर व्यवसायी ने रुपए देने से इनकार कर दिया।

मणिलाल पर आराेप था कि उसे प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। उसका कारोबार बंद कराने की कोशिश की जाने लगी। उसके ठिकानों पर छापेमारी की गई। उस कारोबारी को इतना परेशान किया गया कि उसने खुद को गोली मारकर खुदकुशी कर ली।

पढ़ाई में इतना तेज कि बचपन में ही लग गया था कि यह बड़ा अफसर बनेगा
मणिलाल पाटीदार का जन्म 25 नवंबर 1989 को हुआ था। मणिलाल ने प्रारंभिक शिक्षा गांव में की। पांचवीं से 12 वीं तक की पढ़ाई नवाेदय स्कूल में की। इसके बाद पुणे से इंजीनियरिंग की पढ़ाई पर फाेकस किया। इलेक्ट्रॉनिक टेली कम्यूनिकेशन से बीटेक किया। लाेग बताते हैं कि पढ़ाई में काफी तेज व अनुशासित था।

इसके बातचीत करने के तरीके से बचपन में ही लग गया था कि यह काेई बड़ा अफसर बनेगा। साल 2013 में यूपीएससी की परीक्षा पास की। 188वीं रैंक हासिल की। 25 साल से भी कम उम्र में यूपीएससी पास किया। आईपीएस बन जाने के बाद मणिलाल पाटीदार को यूपी कैडर मिला। उसकी पहली तैनाती लखनऊ में हुई।

खबरें और भी हैं...