पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

जनसेवा:डूंगरपुर में सिंगापुरी चेरी के पेड़ बने पक्षियों के लिए भोजन की स्थाई व्यवस्था

डूंगरपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पक्षियों का सबसे प्रिय भोजन, नगर परिषद ने शहर में लगाए थे एक हजार से अधिक पौधे, अब पेड़ बने और फल भी आने लगे

डूंगरपुर शहर में पक्षियों  के लिए भोजन का स्थाई इंतजाम किया गया है। इतना ही नहीं यह भोजन ऐसा है जो पक्षियों का प्रिय है। नगर परिषद ने शहर के विभिन्न स्थानों पर सिंगापुरी चेरी के एक हजार से अधिक पेड़ लगाए हैं। इन पेड़ों में छोटे बेर के आकार की लाल सूर्ख चेरी सभी प्रजाति के पक्षियों के प्रिय भोजन में से एक है। जानकारों का कहना है कि खासकर चिड़िया तो इसकी खुशबू से ही खींची चली आती है।

गेपसागर रिंग रोड, ऑडिटोरियम के पास, सिविल लाइन रोड सहित कई स्थानों पर 25 से 30 फीट के गहरे हरे रंग के दिखने वाले चौड़े पेड़ सिंगापुरी चेरी के ही है। नगर परिषद का दावा है कि डूंगरपुर प्रदेश का पहला ऐसा जिला है, जहां पक्षियों के चुग्गे के लिए सर्वाधिक सिंगापुरी चेरी के पेड़ लगाए गए हैं। यह मूल रूप से मैक्सिको का पेड़ है तथा इसमें बेर के आकार के लाल सूर्ख फल आते हैं।

इसलिए इसे सिंगापुरी चेरी कहा जाता है। नगर परिषद के रिकार्ड के अनुसार शहर में 2016 से पूर्व पौधरोपण की संख्या 1000 से 1500 के लगभग थी तथा पौधरोपण भी सामान्य ही किस्म के पौधों से ही किया जाता था। इनकी सार संभाल की भी कोई व्यवस्था नहीं थी, पर 2016 से नगरपरिषद ने शहर को हरा भरा करने की ठानी और हर वर्ष 5 हजार से अधिक वृक्ष लगाने का लक्ष्य लिया। इसमें 4 साल में परिषद ने 25 हजार से अधिक वृक्ष लगाए।

नगरपरिषद सभापति केके गुप्ता ने  पौधरोपण को केवल खानापूर्ति नहीं रख उसको मूल रूप देने के उद्देश्य से शहर में शुरुआत से ही 10 से 12 फीट के बड़े पौधे लगाए, जिनकी मृत्युदर काफी कम होती है। चार साल में इन पौधों ने वृक्ष का आकार लेकर छाया देने के साथ शहर के पर्यावरण के लिए वरदान साबित हो रहे हैं। पूरा शहर हरा भरा हो गया हैं।

एक-एक गली में वृक्षारोपण हुआ। इसमें भी नगरपरिषद ने नवाचार करते हुए एक-एक वृक्ष दुकान मालिक और घर मालिक को गोद दिया तथा उस पर उसका नाम अंकित किया। वृक्षों की सार संभाल की व्यवस्था के तहत सभी ट्री गार्ड लगाए गए हैं। इसके चलते आज हजारों की संख्या में पेड़ विकसित हो गए है। 

अरबदेशों का कोनोकार्पस, अर्जेंटीना का टूबूबिया सहित कई प्रजातियों के पौधे लगाए

नगरपरिषद ने विदेशों की तर्ज पर अरबदेशों का कोनोकार्पस, सिंगापुर का सिंगापुरी चेरी, अर्जेंटीना का टूबूबिया, और अफ्रीका का स्पेथोडिया पौधे विशेष रूप से लगाए हैं। इसके अलावा छायादार एवं फलदार वृक्षों में प्राइड ऑफ इंडिया, हार श्रृंगार, अमलतास, गुलमोहर, जामुन, आम, चेरी, नीम, बोरसली, नारियल, ब्लैकबेरी, अमरूद, सितारा फल, चीकू, सत्पथी, बोटल ब्रश आदि वृक्ष लगाए जो पर्यावरण के अनुकूल थे। डूंगरपुर स्वच्छता के नाम से पूरे देश में तो जाना जाता ही है पर अब यहां की हरियाली भी पर्यटकों और शहरवासियों को भाने लगी है।

ठेकेदारों से लगवाए पौधे और सार संभाल भी उन्हीं को सौंपी

परिषद ने ठेकेदारों से पौधे लगवाए साथ ही पौधों की सार संभाल की जिम्मेदारी भी उन्हीं को दी गई। अगर ठेकेदार द्वारा लगाया गया वृक्ष सूखा और मृत पाया जाता है तो उस ठेकेदार की अमानत राशि से रुपए काटने के साथ उस पौधे की लगाने की जिम्मेदारी भी उसी को दी गई है।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज पिछली कुछ कमियों से सीख लेकर अपनी दिनचर्या में और बेहतर सुधार लाने की कोशिश करेंगे। जिसमें आप सफल भी होंगे। और इस तरह की कोशिश से लोगों के साथ संबंधों में आश्चर्यजनक सुधार आएगा। नेगेटिव-...

और पढ़ें