भक्ति प्रदर्शन का विषय नहीं:त्याग एवं समर्पण जीवन में ऊंचाइयों पर पहुंचाता हैं : संत

डूंगरपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
संत श्री रामनिवास शास्त्री। - Dainik Bhaskar
संत श्री रामनिवास शास्त्री।

अखिल भारतीय रामस्नेही सम्प्रदाय रामधाम श्री देवल मेडता उत्तराधिकारी संत श्री रामनिवास शास्त्री का भावसारवाडा में आगमन हुआ। भावसार समाज अध्यक्ष वीरेन्द्र भावसार ने स्वागत एवं माल्यार्पण किया गया। इस अवसर पर संत शास्त्री ने अपने प्रवचन में भगवान राम के जीवन में त्याग एवं समर्पण का उल्लेख किया।

संतों के स्वभाव से परिचय कराया। उन्होंने कहा कि संत सदा सबमें सद्गुण देखतें हैं। संत ही मोक्ष का मार्ग प्रशस्त करता हैं। शास्त्री ने कहा कि आज के युवाओं में उत्साह बहुत हैं, किन्तु यह देखा गया हैं कि भक्ति की भावना कम हैं और प्रदर्शन की भावना अधिक हैं।

शास्त्री ने कहा कि भक्ति प्रदर्शन का विषय नहीं हैं, भक्ति दर्शन का विषय हैं। भगवान का दर्शन करे, सही मन से भगवान की भक्ति करें। इस अवसर पर समाज के लक्ष्मण भावसार परिवार ने आरती एवं प्रसाद का वितरण किया। इस अवसर पर संत उदयरामजी, संत अमृतरामजी, लक्ष्मण भावसार, मनमोहन, अशोक कुमार, निर्मल, दिनेश चंद्र, सुदर्शन, देवेन्द्र, रमाकांत, जयदेव, भानु कुमार एवं नवयुवक मण्डल के सदस्य उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...