पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लापरवाही की पूरी रिपोर्ट जयपुर पहुंची:सुरक्षित निस्तारण के लिए एफसीआई में पड़ी 1534 क्विंटल शक्कर की फिर से 3 स्तर पर हाेगी सैंपलिंग

डूंगरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • किसी भी अधिकारी के खिलाफ अभी तक काेई कार्रवाई नहीं

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति प्रबंधन विभाग की लापरवाही से एफसीआई के गोदाम में तीन साल से शक्कर का स्टाॅक जमा रखने के कारण करीब 60 लाख के राजस्व नुकसान की रिपोर्ट जयपुर तक पहुंच गई है। कलेक्टर को भेजी रिपोर्ट में रसद विभाग के अधिकारियों की जांच में लापरवाही के कारण शक्कर का वितरण समय पर नहीं करना बताया। जिसके कारण गोदाम में ही शक्कर खराब हाे गई। ज दोषी अधिकारियों के खिलाफ जयपुर स्तर पर कार्रवाई के संकेत दिए हैं।

वहीं अब इस शक्कर की वापस सैंपलिंग कराते हुए निस्तारण किया जाएगा। जिला रसद अधिकारी हजारीलाल आलाेरिया ने बताया कि जिले में शक्कर के बंद वितरण काे पुन: शुरू करने के लिए काेटा से शक्कर प्राप्त करने के निर्देश दिए हैं। खराब शक्कर के निस्तारण के लिए सबसे पहले शक्कर के अलग-अलग स्तर के सैंपलिंग पुन: चिकित्सा विभाग से लिए जाएंगे।

इसमें सैंपलिंग की रिपोर्ट काे तीन स्तर से मांगी जाएगी। पहले स्तर में शक्कर मानव युक्त खाने की है या नहीं इसकी रिपोर्ट ली जाएगी। दूसरे स्तर पर काैनसी शक्कर पशु के खाने योग्य है। तीसरे स्तर पर जमीन में गड्डा खाेदकर अंदर फेंकी जाएगी। ताकि कोई उपयोग में नहीं ले सके।

518 राशन डीलर काे काेटा से शक्कर लेकर बांटेंगे
जिले के 542 राशन डीलर में 500 से अधिक के पास शक्कर वितरण के लिए उपलब्ध नहीं है। डेढ़ साल पुरानी शक्कर की जांच में उसकी एक्सपायरी डेट 2022 तक है। इसके चलते इसे सुरक्षित माना है। वहीं जिलेभर में शक्कर की उपलब्धता के लिए काेटा के जिला रसद अधिकारी से बचे हुए स्टाॅक काे डूंगरपुर मंगवाकर बांटने के आदेश मिले हैं। इसके लिए जयपुर स्तर पर पत्र लिखकर काेटा से भिजवाने की कार्रवाई शुरू की गई हैं।

12 जून को प्रकाशित समाचार
12 जून को प्रकाशित समाचार
खबरें और भी हैं...