अभिभावकों ने किया मंथन:कोरोना महामारी में एसडीएमसी और एसएमसी की स्कूल में अहम भूमिका

डूंगरपुर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बैठक}बच्चों के सर्वांगीण विकास को लेकर शिक्षकों और अभिभावकों ने किया मंथन

एसएमसी एसडीएमसी की पीईईओ बलवाड़ा विद्यालय में सामुदायिक जागृति सहभागिता के तहत दो दिवसीय कार्यशाला पीईईओ प्रेरणा भट्ट की अध्यक्षता, मुख्य अतिथि लक्ष्मण कोटेड उपसरपंच, विशिष्ट अतिथि इब्राहिम शेख, एसएमसी अध्यक्ष हूरमा बंरडा के आतिथ्य में कोरोना गाइडलाइन के अनुसार संपन्न हुई। भट्ट ने कहा कि विद्यालय विकास के लिए एसएमसी एसडीएमसी अभिभावक तथा शिक्षक एक महत्वपूर्ण कड़ी है। सब मिलकर बालकों का संपूर्ण विकास कर सकते हैं। इसके लिए विद्यालय विकास के लिए सामुदायिक जागृति सहभागिता अति आवश्यक है।

दक्ष प्रशिक्षक हीरालाल यादव, दिनेश प्रजापति, मयूर सुथार ने वर्तमान कोरोना बीमारी के बारे में बताया। बचाव के उपाय के बारे में बताते हुए कोरोना महामारी में एसएमसी व एसडीएमसी किस प्रकार महामारी के बचाव में अपनी भूमिका निभा सकती है की जानकारी दी। साथ साथ दो दिन कार्यशाला हूई। एसएमसी एसडीएमसी के विभिन्न समस्त बिंदुओं पर चर्चा करते हुए उद्देश्य, गठन व कार्य, भूमिका, जनसहभागीता, समग्र शिक्षा से प्राप्त अनुदान की जानकारी दी। साथ ही विद्यालय में बालकों को सरकार द्वारा प्रदत छात्रवृत्ति आपकी बेटी योजना पालन के बारे में जानकारी दी। व्यवस्थापक के रूप में भोपाल सिंह, हरिहर जोशी ने सभी प्रकार की व्यवस्था की। कार्यशाला का संचालन दिनेश प्रजापति ने किया और आभार हेमंत खराड़ी ने व्यक्त किया। रामावि चक महुडी में एसएमसी व एसडीएमसी सदस्यों का दो दिवसीय प्रशिक्षण सरपंच शंकरलाल गमेती की अध्यक्षता में हुआ। इसमें 42 संभागियों ने भाग लिया।

प्रशिक्षण में दक्ष प्रशिक्षक योगेश भट्ट व महेंद्र कुमार भट्ट ने मॉड्यूल के अनुसार विभिन्न गतिविधियों के आधार पर सदस्यों को विद्यालय विकास में उनकी भूमिका, नामांकन वृद्धि, स्वच्छता, सदस्यों के कर्तव्य, कोरोना से बचाव की जानकारी दी। संस्थाप्रधान कुसुमलता जैन व राजकुमार खराड़ी , वार्ड पंच धनजी वरहात, गटुलाल गमेती, आदि ने विचार व्यक्त किए। आभार वीरेंद्र सिंह बेडसा ने व्यक्त किया।

खबरें और भी हैं...