शक्ति महोत्‍सव:घट स्थापना के साथ शारदीय नवरात्र प्रारंभ, कोरोना के कारण गरबे नहीं

डूंगरपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नवरात्र के अवसर पर पहले दिन अंबे मां की मूर्ति स्थापना के लिए ले जाते हुए - Dainik Bhaskar
नवरात्र के अवसर पर पहले दिन अंबे मां की मूर्ति स्थापना के लिए ले जाते हुए
  • सागवाड़ा में सौ वर्ष से नवरात्र में चल रहे अखंड रामधुन की शुरुआत, भक्तों में दिखी सोशल डिस्टेंसिंग, मंदिरों में प्रतिमाओं का विशेष शृंगार किया गया

शिवाजी नगर स्थित श्री ऊं कल्याण गातरोड़ धाम पर शारदीय नवरात्रि की घट स्थापना सुबह अभिजित मुहूर्त में पुर्ण हुई। महंत जयसिंह सोलंकी के सानिध्य में व आचार्य मयंक रावल के नेतृत्व में सुबह गणपति, जगदंबा, कल्लाजी राठौड़, भैरवजी महाराज व हनुमानजी के शुभ मंत्रों के साथ स्थापना का कर्म प्रारंभ हुआ।

तत्पश्चात मां जगदंबा और शेषाअवतार कल्लाजी राठौड़ की महाआरती की गई। इस अवसर पर धाम के संयोजक गोपाल सिंह सोलंकी, वर्षा सोलंकी, हेमंत सोनी, महेंद्र सुथार आदि भक्तों ने भाग लिया। शिवाजी नगर हाउसिंग बोर्ड स्थित माता मंदिर में मां दुर्गा के शेलपुत्री स्वरूप की पूजा की गई।

आचार्य हरिप्रसाद दवे के सानिध्य में मुख्य यजमान राजेन्द्र भंडारी, मंजू बेन भण्डारी, रमेश वरियानी, दवेंद्र वरियानी, पुजारी नरहरि पहाड़, मन्दिर समिति के सरक्षक मांगीलाल प्रजापत, राजकुमारी प्रजापत, दिनेश चौबीसा उपस्थित रहे। पाल लेंबरवाडा के गांव तलैया में गुरुवार को सती सुरामाल दास के धाम पर अश्विन नवरात्र में नो दिन नवरात्रि की वाडी कलश बिठाया गया है। इस मौके पर भगत सोमा दादा, मेट जीवनलाल कोटवाल, जीतू, बापु बदा, काना, पन्नालाल, हरीश, कसरु आदि मौजूद रहे।

उपतहसील मुख्यालय से 5 किमी दूर विराट गांव में प्रसिद्ध शक्ति पीठ मां अर्धनारीश्वर माता का मंदिर में सुबह से ही मां के दर्शनों के लिए श्रद्धालु दर्शन के लिए आते रहे। ओबरी के सभी गरबा मंडलों में कोविड गाइडलाइन के अनुसार सन्नाटा छाया रहा।

कान्हड़दास धाम रामद्वारा में गुरुवार को अखंड दीप प्रज्वलन के साथ शारदीय नवरात्रि पर अखंड रामधुन की शुरुआत हुई। चातुर्मासरत संत पुनीतरामजी महाराज के सानिध्य में सम्प्रदाय के संत रामकिशोरजी महाराज की तस्वीर का पूजन व माल्यार्पण के बाद करीब सौ वर्ष से नवरात्र में चल रही अखंड रामधुन की शुरुआत की।

इस अवसर पर रामद्वारा सेवा समिति के अध्यक्ष सुधीर वाडेल, प्रभुलाल वाडेल, हरिश्चन्द्र गुप्ता, दिनेश शर्मा, जयंतीलाल भावसार, दामोदर दलाल, राजेन्द्र शर्मा, बलभद्र नीम, प्रदीप भाटिया समेत श्रद्धालु मौजूद थे। नगर के सलाटवाड़ा स्थित खोडियार माता मंदिर, पिपली चौक में द्वारिकाधीश मंदिर, कंसारा चौक, वरदायिनी माता मंदिर, खटिकवाड़ा व पुलिस थाना परिसर में स्थित अंबे माताजी के मंदिर में घट स्थापना के साथ विभिन्न धार्मिक आयोजन व पंडितों द्वारा श्री दुर्गासप्तशती के पाठ किए जा रहे हैं।

यहां गरबा नृत्य का आयोजन होता आ रहा हैं, पर पिछले दो साल से कोरोना के चलते गरबों के कार्यक्रम नहीं हो रहे हैं। महाकाली मंदिर में दर्जी समाज की ओर से पंडित भरत पंड्या के निर्देशन में यजमान योगेश दर्जी, उपेंद्र, भगवान, सुरेश, जगदीश, गोपाल, पवन कुमार, दामोदर व दर्जी समाज द्वारा घट स्थापना की। लव सेवक व नंदाबाई सेवक ने माताजी का आकर्षक श्रंगार किया।

काली कल्याण धाम में महंत करण सिंह राणावत के सानिध्य में घट स्थापना की गई। आचार्य जिग्नेश पंड्या के द्वारा विधि विधान के साथ पूजा-अर्जना की गई। इस अवसर पर सेवक कालू सिंह, दिलीप सिंह, मगनलाल पाटीदार, नरेश पाटीदार, सत्यनारायण दास, दिलीप पाटीदार उपसरपंच ललित पाटीदार उपस्थित रहे।

गांव सहित क्षेत्रभर के गांवो में गुरुवार को शारदीय नवरात्रि के तहत देवी मंदिरों में घट स्थापना के साथ अनुष्ठानों का दौर शुरू हुआ। पूंजपुर गांव के महालक्ष्मी मंदिर, भगवती माता, नागेश्वरी मन्दिर, दशामाता मन्दिर में घट स्थापना की गई साथ ही मंदिरों में प्रतिमाओं का विशेष श्रंगार किया गया।

खबरें और भी हैं...